मणिपुर विधानसभा की 60 सीटों के लिए अगले साल 2022 में चुनाव होने जा रहे हैं. इनमें उरीपोक विधानसभा सीट (Uripok Assembly Seat) इंफाल वेस्ट जिले में पड़ती है. यह सीट (Uripok Assembly Seat) इन मणिपुर संसदीय क्षेत्र के अंतर्गत आती है. 2017 के विधानसभा चुनाव में एनसीपी उम्मीदवार जय कुमार सिंह यहां से विधायक चुने गए थे.

साल 2000 में हुए विधानसभा के चुनाव में इस सीट (Uripok Assembly Seat) से मणिपुर स्टेट कांग्रेस पार्टी के उम्मीदवार पी.ए. सिंह विधायक चुने गए थे. उन्होंने फेडरल पार्टी ऑफ मणिपुर के उम्मीदवार एल.नंदकुमार को हराया था.

2002 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी के उम्मीदवार एल नंदकुमार कुमार विधायक चुने गए. उन्होंने फेडरल पार्टी ऑफ मणिपुर के उम्मीदवार पी.ए. सिंह को हराया था.

2007 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी के उम्मीदवार नंदकुमार सिंह लगातार दूसरी बार विधायक चुने गए. उन्होंने मणिपुर पीपल्स पार्टी के उम्मीदवार पीए सिंह को हराया था.

2012 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी के उम्मीदवार एल.नंद कुमार सिंह लगातार तीसरी बार इस सीट (Uripok Assembly Seat) से विधायक चुने गए. उन्होंने निर्दलीय उम्मीदवार डॉ एन. द्विजमणि सिंह को हराया था. इस चुनाव में कांग्रेस उम्मीदवार नंद कुमार सिंह को 4,864 वोट मिला था, जबकि निर्दलीय उम्मीदवार एन. द्विजमणि सिंह को 3,779 वोट मिला था. तीसरे नंबर पर मणिपुर स्टेट कांग्रेस पार्टी के उम्मीदवार श्यामनंद सिंह थे, जिन्हें 3,712 वोट मिला था.

2012 के विधानसभा चुनाव में इस सीट (Uripok Assembly Seat) पर कांग्रेस पार्टी का वोट शेयर 27.84 प्रतिशत था. निर्दलीय उम्मीदवार का वोट शेयर 21.63 प्रतिशत और मणिपुर स्टेट कांग्रेस पार्टी का वोट शेयर 21.25 प्रतिशत था.

2017 के विधानसभा चुनाव में एनसीपी उम्मीदवार जय कुमार सिंह विधायक चुने गए थे. उन्होंने कांग्रेस पार्टी के तीन बार के विधायक एल. नन्दकुमार सिंह को हराया था. इस चुनाव में एनसीपी उम्मीदवार जय कुमार सिंह को 6,469 मिला था जबकि कांग्रेस उम्मीदवार नंदकुमार सिंह को 6,124 वोट मिला था.तीसरे नंबर पर भाजपा के डॉक्टर डॉ एन. द्विजमणि सिंह थे, जिन्हें 5,986 वोट मिला था.

2017 के विधानसभा चुनाव में इस सीट (Uripok Assembly Seat) पर एनसीपी का वोट शेयर 32.49 प्रतिशत और कांग्रेस पार्टी को वोट शेयर 30.67 प्रतिशत था. भारतीय जनता पार्टी को शेयर 30.6 प्रतिशत था.