इंफाल। आगामी मणिपुर विधानसभा चुनाव (Manipur Assembly Elections) के लिए उम्मीदवारों को टिकट नहीं दिए जाने के विरोध में भाजपा समर्थकों ने रविवार को राज्य के विभिन्न हिस्सों में सड़क जाम कर दिया तथा पार्टी के झंडे और नेताओं के पुतले जलाए। भाजपा (BJP) ने दिन में पहले दिन 60 सीटों वाली मणिपुर विधानसभा के लिए उम्मीदवारों की पूरी सूची की घोषणा की। इसमें तीन मौजूदा विधायकों का नाम शामिल नही किया गया। 

पार्टी कार्यकर्ताओं को टिकट नहीं देने और टर्नकोट को टिकट देने पर भाजपा नेताओं के खिलाफ बड़ी संख्या में लोग सड़कों पर उतर आए। इस बीच सगोलबंद, कीशमथोंग निर्वाचन क्षेत्रों में प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए पुलिस ने आंसू गैस के गोले दागे, जिससे गुस्साए भाजपा कार्यकर्ताओं ने टिडिम रोड और अन्य स्थानों पर सड़कें अवरुद्ध कर दीं। सगोलबंद में भाजपा कार्यकर्ताओं ने सड़कों को अवरुद्ध कर दिया और दावा किया कि ख्वैराकपम लोकेन सिंह पिछले दस वर्षों से निर्वाचन क्षेत्र में भाजपा के लिए काम कर रहे थे और पिछले विधानसभा चुनाव में कुछ वोटों से हार गए थे, हालांकि टिकट मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह (Chief Minister N Biren Singh) के दामाद आरके इमो (R K Emo) को दिया गया था। 

उल्लेखनीय है कि आरके इमो कांग्रेस के पूर्व विधायक रहे हैं। वह हाल ही में भाजपा में शामिल हुए थे। राज्य के काकचिंग, मोइरांग, वांगखेई और अन्य निर्वाचन क्षेत्रों में भी विरोध प्रदर्शन की सूचना मिली, जहां हाल ही में भाजपा में शामिल हुए कांग्रेस नेताओं को टिकट दिए गए हैं। इस बीच, सभी संवेदनशील स्थानों पर सुरक्षा कड़ी कर दी गई है। प्रदर्शनकारियों ने कहा कि वे भाजपा की वंशवाद की राजनीति और भाजपा कार्यकर्ताओं को टिकट न देने के खिलाफ लड़ाई जारी रखेंगे।