पूर्वोत्तर राज्यों में ड्रग्स तस्करी सबसे ज्यादा की जाती है। इन राज्यों में डोडा, गांजें की खेती भी जाती है। राज्य सरकार द्वारा चलाया गया ड्रग्स के खिलाफ युद्ध को आगे बढ़ाने के लिए और कई तरह के प्लान तैयार कर रही है। इस युद्ध में मणिपुर के मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह ने कहा कि भाजपा नीत सरकार लोगों को बचाने के लिए राज्य से नशीले पदार्थों को जड़ से खत्म करेगी।




यह भी पढ़ें- 23 जून होने वाले By-election के दिन बंद होंगे सभी सरकारी कार्यालय

राज्य की 70 प्रतिशत से अधिक आबादी ड्रग्स का शिकार हो गई है, इस पर चिंता व्यक्त करते हुए, सीएम बीरेन ने कहा कि "ऐसा प्रतीत होता है कि कुछ लोग जानबूझकर समाज को नष्ट करने की कोशिश कर रहे हैं"। वह भाजपा नीत 2.0 सरकार आने के बाद कांगपोकपी बाजार के सद्भावना मंडप में आयोजित राज्य भाजपा की पहली राज्य कार्यकारिणी की बैठक के उद्घाटन समारोह के दौरान बोल रहे थे।


बैठक का आयोजन राष्ट्रीय महासचिव संगठन भाजपा बीएल संतोष के नेतृत्व में किया गया। मुख्यमंत्री ने कहा कि 'ड्रग्स पर युद्ध' अभियान के तहत ड्रग्स के खिलाफ लड़ाई के पांच साल पूरे हो चुके हैं, हालांकि, हाल ही में लिलोंग में एक दवा निर्माण इकाई का भंडाफोड़ करना दिखाता है कि कुछ लोग जानबूझकर मणिपुर को नष्ट करने की कोशिश कर रहे हैं।


यह भी पढ़ें- त्रिपुरा कांग्रेस का गंभीर आरोप, पुलिस ने AICC की महिला सचिव ज़रिथा लाइफांग के साथ की बदतमीजी


हालांकि, भाजपा के नेतृत्व वाली सरकार चुप नहीं रहेगी और सरकार के लिए लोगों को बचाना एक कर्तव्य है। इसलिए, सरकार राज्य से ड्रग्स को खत्म करने और लोगों को बचाने के लिए जानबूझकर कदम उठाएगी।