दिल्ली में गिरफ्तार किए गए मानवाधिकार कार्यकर्ता डॉ मार्क थंगमांग हाओकिप को मणिपुर के इंफाल लाया गया। हाओकिप को मणिपुर की राजधानी में पहुंचने के बाद इंफाल पश्चिम पुलिस थाने ले जाया गया। डॉ मार्क थांगमांग हाओकिप को मंगलवार को नई दिल्ली में गिरफ्तार किया गया था, जब वह अपने खिलाफ दर्ज एक मामले के संबंध में पुलिस द्वारा जारी किए गए समन का जवाब देने में विफल रहे थे।

ये भी पढ़ेंः Manipur Drugs War: माओ परिषद सेनापति ने अफीम की खेती के खिलाफ लिया स्टैंड


इंटरनेशनल ह्यूमन राइट्स एसोसिएशन (IHRA) के मणिपुर चैप्टर के अध्यक्ष डॉ मार्क थंगमांग हाओकिप को मंगलवार दोपहर नई दिल्ली के किशनगढ़ स्थित उनके आवास से गिरफ्तार किया गया। मणिपुर के चुराचांदपुर जिले में पुलिस ने उसके खिलाफ आईपीसी की धारा 153-ए/505(2) के तहत प्राथमिकी दर्ज की है, जो विभिन्न समूहों या समुदायों के बीच दुश्मनी को बढ़ावा देने से संबंधित है। 

ये भी पढ़ेंः मणिपुर के क्वाथा ग्रामीणों की हालत गंभीर, सरकारी सुविधाओं से कोसों दूर


हाओकिप की गिरफ्तारी ऐसे समय में हुई जब विभिन्न समूहों द्वारा पहले से ही कई विरोध प्रदर्शन किए जा चुके थे। हाओकिप की गिरफ्तारी के बाद मणिपुर के कई हिस्सों में हिंसक विरोध प्रदर्शन हुए। गौरतलब है कि प्रदर्शनों के चलते चुराचांदपुर के जिला मजिस्ट्रेट (डीएम) ने शहर में धारा 144 लागू कर दी है। हाओकिप इंटरनेशनल ह्यूमन राइट्स एसोसिएशन (IHRA) की मणिपुर इकाई के अध्यक्ष हैं। वहीं हाओकिप की बिना शर्त रिहाई की मांग को लेकर प्रदर्शनकारियों रैली निकाली। इस दौरान चुराचांदपुर कस्बे में पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच झड़प हो गई, जिसमें 10 प्रदर्शनकारी और 3 पुलिसकर्मी घायल हो गए।