मणिपुर विधान सभा के सचिव ने सदन की सदस्यता से इस्तीफा देने वाले कांग्रेस के पांच विधायकों की सीटों को मंगलवार को रिक्त घोषित कर दिया। विधानसभा की सचिव एम रमणी देवी ने इस संबंध में पांच अलग-अलग बुलेटिन जारी कर इन सीटों के रिक्त होने की घोषणा की। 

इनमें वांगोई एसी के ओ लुखोई, लिलोंग एसी के अब्दुल नासिर, साइतु के नगमथांग हाओकीप, सिंघाट के गिनसुआनहाउ तथा वांगखेई के ओकराम हेनरी शामिल हैं। गौरतलब है कि सोमवार को मुख्यमंत्री एन बिरेन सिंह ने जब विधानसभा में विश्वास मत पेश किया तो कांग्रेस के छह विधायकों ने सदन की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया था।  सिंह के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार के खिलाफ कांग्रेस ने अविश्वास प्रस्ताव पेश किया था। कांग्रेस के आठ विधायकों की अनुपस्थिति के बीच 60 सदस्यीय विधानसभा में 28 वोट हासिल कर ध्वनिमत से भाजपा विश्वासमत हासिल करने में सफल रही, जबकि कांग्रेस के केवल 16 विधायक ही इसमें मौजूद रहे।

कांग्रेस के छठे विधायक का मामला विधानसभा अध्यक्ष के पास लंबित है। कांग्रेस विधायक मोहम्मद फजुर रहीम सदन की कार्यवाही में इसलिए भाग नहीं ले सके क्योंकि उन्हें नयी दिल्ली से लौटने के बाद कोरोना वायरस से संक्रमित पाया गया था। विधानसभा की मौजूदा संख्या अध्यक्ष समेत 53 है। चार विधायकों को दल बदल कानून के तहत अयोग्य करार दिया गया है, जबकि तीन विधायकों ने इस्तीफे दे दिये थे। भाजपा नीत सरकार के समक्ष गत 17 जून को राजनीतिक संकट उत्पन्न हो गया था जब छह विधायकों ने सरकार से समर्थन वापस ले लिया और पार्टी के तीन विधायक कांग्रेस में शामिल हो गये थे। बाद में भाजपा के शीर्ष नेताओं के हस्तक्षेप के बाद नेशनल पीपुल्स पार्टी के चार विधायक फिर से गठबंधन में शामिल हो गये थे।