इंफाल के बीर टिकेंद्रजीत अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे (Bir Tikendrajit International Airport) पर सुरक्षाकर्मियों ने एक महिला समेत दिल्ली जा रहे म्यांमार के 14 नागरिकों (citizens of myanmar) को हिरासत में ले लिया है। पुलिस ने शनिवार को यह जानकारी दी। मणिपुर सरकार (Manipur goverment) ने राज्य में म्यांमार के नागरिकों के प्रवेश की जांच का आदेश दिया है, जो पड़ोसी देश के साथ 398 किलोमीटर अंतरराष्ट्रीय सीमा साझा करता है।

एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि म्यांमार के 14 नागरिकों ने नकली आधार कार्ड (Fake Aadhar Card) का उपयोग करके राष्ट्रीय राजधानी की यात्रा करने की कोशिश की, लेकिन सुरक्षा कर्मियों ने शुक्रवार को उन्हें पकड़ लिया। उन्हें उस समय पकड़ा गया, जब वे दिल्ली जाने वाली इंडिगो (Indigo Flight) की उड़ान में सवार होने वाले थे। म्यांमार के नागरिकों ने, जिनमें ज्यादातर युवा शामिल थे, सुरक्षा कर्मियों को बताया कि वे एक ऐसे स्थान से मणिपुर (Manipur) में घुसे थे, जो कि खुली सीमा थी। बाद में विदेशी नागरिकों को आगे की कानूनी कार्रवाई के लिए इंफाल पश्चिम जिले के सिंगजामेई पुलिस स्टेशन (Singjamei Police Station) को सौंप दिया गया।

मणिपुर के मुख्यमंत्री एन. बीरेन सिंह (Manipur Chief Minister N. Biren Singh) ने कहा कि राज्य सरकार ने इस मामले को बहुत गंभीरता से लिया है और उचित दस्तावेजों के बिना देश में प्रवेश करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। यह घटना 12 सितंबर को मिजोरम से गुवाहाटी (Mizoram to Guwahati) पहुंचने के बाद रेहबारी के एक निजी लॉज से 10 महिलाओं सहित दिल्ली जाने वाले 26 म्यांमार नागरिकों को गिरफ्तार किए जाने के तीन सप्ताह बाद सामने आई है। म्यांमार के 26 नागरिकों में से सात किशोर थे जबकि बाकी की उम्र 20 से 28 साल के बीच थी।

 म्यांमार के रोहिंग्या मुसलमानों (Rohingya Muslim) और बांग्लादेश में शरणार्थी शिविरों सहित म्यांमार के नागरिकों को अक्सर विभिन्न पूर्वोत्तर राज्यों (North Eastern States) में हिरासत में लिया जाता है, जब वे अवैध रूप से नौकरी की तलाश में भारत में प्रवेश करते हैं या मानव तस्करी में फंस जाते हैं। 1 फरवरी को म्यांमार में आपातकाल की घोषणा के बाद से मार्च महीने के बाद से लगभग 11,500 म्यांमार नागरिकों ने मिजोरम में शरण ली है।चार पूर्वोत्तर राज्य - मणिपुर, नागालैंड, अरुणाचल प्रदेश और मिजोरम - म्यांमार के साथ 1,643 किलोमीटर की बिना बाड़ वाली सीमा साझा करते हैं।