उत्तर प्रदेश (UP) में UP Election 2022 की घोषणा के बाद से भाजपा को लगातार झटके पर झटके लग रहे हैं। योगी सरकार में कैबिनेट मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य के बाद मंगलवार को 3 और भी विधायकों ने भाजपा छोड़ दी है। इनमें बांदा (Banda) जिले की तिंदवारी विधानसभा से विधायक ब्रजेश प्रजापति, शाहजहांपुर की तिलहर सीट से विधायक रोशनलाल वर्मा और कानपुर के बिल्हौर से विधायक भगवती सागर शामिल हैं।

इन विधायकों ने स्वामी प्रसाद मौर्य के समर्थन में बीजेपी को छोड़ा है। मालूम हो कि स्वामी प्रसाद मौर्य ने भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) का साथ छोड़कर समाजवादी पार्टी (सपा) का दामन थाम लिया है। अब ब्रजेश प्रजापति, रोशनलाल वर्मा और भगवती सागर भी सपा का ज्वॉइन करेंगे।

विधायक रोशन लाल ने बीजेपी छोड़ते वक्त कहा कि योगी सरकार में उनकी 5 सालों तक की गई शिकायतों पर कोई सुनवाई नहीं हुई, जिसके चलते उन्हें यह निर्णय लेना पड़ा।

यूपी के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य का कहना है कि स्वामी प्रसाद मौर्य ने किन कारणों से इस्तीफा दिया है, मैं नहीं जानता हूं। उनसे अपील है कि बैठकर बात करें। जल्दबाजी में लिए हुए फैसले अक्सर गलत साबित होते हैं।

उत्तर प्रदेश में चुनावों से पहले प्रदेश संगठन मंत्री सुनील बंसल और बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह को पार्टी से नाराज चल रहे नेताओं को मनाने की जिम्मेदारी दी गई है। केंद्रीय नेतृत्व के निर्देश पर जिम्मेदारी दी गई है।