दादर और नागर हवेली के सांसद मोहन डेलकर ने आत्महत्या कर ली है और उनके पास गुजराती में लिखा सुसाइड नोट बरामद हुआ है। मुंबई के होटल सी ग्रीन मरीन में उनकी लाश मिली है। एक सुसाइट नोट भी बरामद हुआ है जो गुजराती भाषा में लिखी हुई है। वे इस लोकसभा क्षेत्र से निर्दलीय सांसद थे। सांसद की लाश को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया। पुलिस ने जांच शुरू कर दी है।
मोहन डेलकर की उम्र 58 साल थी और साल 1989 में वे दादर और नागर लोकसभा क्षेत्र से जीतकर पहली बार लोकसभा पहुंचे थे। अपने राजनीतिक जीवन की शुरुआत उन्होंने ट्रेड यूनियन नेता के तौर पर थी। वे कांग्रेस और बीजेपी के टिकट पर सांसद का चुनाव लड़ चुके थे। बाद में उन्होंने भारतीय नवशक्ति पार्टी (बीएनपी) का गठन किया था।

मोहन डेलकर तीन बार लोकसभा का चुनाव जीतकर लोकसभा पहुंचे। साल 2019 में उन्होंने खुद को कांग्रेस से अलग करने का फैसला किया और बतौर निर्दलीय उम्मीदवार लोकसभा चुनाव में उतरे और जीत दर्ज करने में कामयाबी हासिल की।