पश्चिम बंगाल में राजनीतिक लड़ाई एक बार फिर हिंसात्मक हो गई है। पूर्वी मिदनापुर में शुभेंदु अधिकारी और तृणमूल कांग्रेस के समर्थक आपस में भिड़ गए हैं। हाल ही में में शुभेंदु अधिकारी टीएमसी छोड़कर बीजेपी में शामिल हुए हैं।

पिछले हफ्ते ही केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने पश्चिम बंगाल का दो दिन का दौरा किया था। इस दौरे पर ही 19 दिसंबर को मिदनापुर में एक विशाल रैली का आयोजन किया गया जहां शुभेंदु अधिकारी बीजेपी में हुए। शुभेंदु के अलावा उनके भाई और कई दूसरे टीएमसी व अन्य पार्टियों के नेता भी बीजेपी के साथ आ गए। अब जबकि टीएमसी के कद्दावर नेता रहे शुभेंदु भाजपा में चले गए हैं तो टीएमसी समर्थकों के साथ उनके तकरार भी सामने आने लगे हैं।बंगाल में राजनीतिक हिंसा की यह ताजा घटना शुभेंदु अधिकारी का गढ़ कहे जाने वाले मिदनापुर में ही हुई है। इससे पहले भी शुभेंदु अधिकारी अपने ऊपर हमलों की बात करते रहे हैं। हाल ही में जब केंद्रीय गृह मंत्रालय की तरफ से उन्हें जेड कैटेगरी की सुरक्षा दी तो उनकी तरफ से बताया गया कि पिछले कुछ वक्त में उनके ऊपर करीब एक दर्जन हमले किए गए हैं।भाजपा की तरफ से लगातार ये आरोप लगाए जाते हैं कि बंगाल में ममता बनर्जी की पार्टी टीएमसी से जुड़े लोग गुंडागर्दी करते हैं और बीजेपी के नेताओं व कार्यकर्ताओं पर हमले करते हैं। इन तमाम आरोपों को लेकर बीजेपी राज्य में निष्पक्ष चुनाव कराने और सुरक्षा बढ़ाने की मांग भी कर चुकी है।