जम्मू-कश्मीर (Jammu and Kashmir) के नौशेरा सेक्टर में आज हुए रहस्यमयी विस्फोट (mysterious explosion)  में भारतीय सेना के एक अधिकारी (मेजर) और (Major rank army officer and a soldier were martyred in an explosion) एक जवान की जान चली गई। आपको बता दें कि  शनिवार दोपहर राजौरी जिले में नियंत्रण रेखा के पास एक विस्फोट में मेजर रैंक के सेना अधिकारी और एक सैनिक शहीद हो गए। 

अधिकारियों ने कहा कि राजौरी जिले के नौशेरा के(explosion occurred during routine patrolling near the forward location)  लाम सेक्टर में अग्रिम स्थान के पास नियमित गश्त के दौरान एक रहस्यमय विस्फोट हुआ। उन्होंने बताया कि दोनों घायलों को गंभीर हालत में अस्पताल ले जाया गया। सूत्रों ने कहा कि बाद में उन्होंने दम तोड़ दिया। 

यह घटना उस समय हुई है जब पुंछ अभियान क्षेत्र में 20वें दिन में प्रवेश कर गया है।  धमाका दुश्मन का आसान काम बताया जा रहा है, क्योंकि शुरुआती सुरागों से पता चलता है कि यह दुश्मन द्वारा इलाके में गश्त कर रही सेना को निशाना बनाने के लिए लगाया गया एक IED था।

जम्मू-कश्मीर पुलिस ने पुंछ जिले की मेंढर तहसील के भट्टा दुर्रियन जंगलों में फंसे आतंकवादियों को कथित तौर पर भोजन और आश्रय मुहैया कराने के आरोप में दो भाइयों समेत तीन और लोगों को हिरासत में लिया है। हिरासत में लिए गए लोगों में 24 वर्षीय मोहम्मद आरिफ और 22 वर्षीय मोहम्मद तारिक शामिल हैं, जो सभी भट्टा दुरियन के निवासी हैं।

अब तक करीब 20 लोगों को हिरासत में लिया गया है। इनमें कुछ महिलाएं भी शामिल हैं। नेपाल के काठमांडू से तीन लोगों को पकड़ा गया। सेना के नौ जवान, जिनमें से दो जेसीओ हैं, अब तक सुरनकोट के चमरेर जंगलों और मेंढर के भट्टा दुरियन जंगलों में आतंकवादियों के साथ मुठभेड़ में शहीद हो चुके हैं। 

11 अक्टूबर को पुंछ के सुरनकोट इलाके में सुरक्षा बलों और आतंकवादियों के बीच मुठभेड़ में सेना का एक अधिकारी और चार जवान शहीद हो गए थे। बाद में 14 अक्टूबर को पुंछ के मेंढर के नर खास वन क्षेत्र में सेना के दो जवान शहीद हो गए थे।