पश्चिम बंगाल सरकार ने बड़ा ऐलान किया कि अगले साल तक 32000 से अधिक टीचरों की भर्ती करेगी। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि पश्चिम बंगाल सरकार अगले साल मार्च तक अपर प्राइमरी और प्राइमरी लेवल के 32,000 से ज्यादा टीचर्स की नियुक्ति करेगी। सीएम ने कहा कि अपर प्राइमरी (कक्षा 5-8) में कम से कम 14,000  और प्राइमरी लेवल (कक्षा 1-4) पर 10,500 वैकेंसी को भरने के लिए नियुक्ति प्रक्रिया अक्टूबर में दुर्गा पूजा से पहले पूरी हो जाएगी। उन्होंने ये भी कहा कि मार्च 2022 तक प्राइमरी टीचर्स के करीब 7,500 और पद भरे जाएंगे।

सीएम ने कहा,“ इस तरह अगले मार्च तक लगभग 32000 शिक्षकों की नियुक्ति की जाएगी। यह निश्चित रूप से हमारी स्कूली शिक्षा में मदद करेगा। ” उन्होंने ये भी कहा कि नियुक्तियां मेरिट लिस्ट के आधार पर की जाएंगी और किसी लॉबिंग की जरूरत नहीं होगी। ममता बनर्जी ने आगे कहा कि “जिन्होंने परीक्षा उत्तीर्ण की है वे नौकरी के लिए पात्र हैं। नियुक्तियां अदालती मामलों के कारण अटकी हुई थीं। ”
कलकत्ता HC ने प्राइमरी टीचर्स भर्ती प्रक्रिया पर अंतरिम रोक लगा दी थी
बता दें कि कलकत्ता उच्च न्यायालय ने फरवरी में प्राइमरी टीचर्स के लिए भर्ती प्रक्रिया पर अंतरिम रोक लगाने का आदेश दिया था। दरअसल कुछ उम्मीदवारों ने याचिका दायर कर पश्चिम बंगाल बोर्ड ऑफ एजुकेशन द्वारा जारी मेरिट लिस्ट में गड़बड़ी का आरोप लगाया था। इसके बाद कोर्ट ने भर्ती प्रक्रिया पर अंतरिम रोक लगा दी थी। उच्च न्यायालय ने बाद में पश्चिम बंगाल केंद्रीय विद्यालय सेवा आयोग (WBCSSC) को यह सुनिश्चित करने का निर्देश दिया कि योग्य उम्मीदवारों को भर्ती से बाहर न रखा जाए और भर्ती प्रक्रिया पारदर्शी तरीके से की जाए।

गौरतलब है कि अपर प्राइमरी स्कूलों में टीचर्स की रिक्रूटमेंट के लिए शिक्षक पात्रता परीक्षा (टीईटी) अगस्त 2015 में आयोजित की गई थी और रिजल्ट सितंबर 2016 में घोषित किए गए थे। साक्षात्कार के परिणाम अगस्त 2019 में आए थे। लगभग पांच लाख उम्मीदवार टेस्ट के लिए उपस्थित हुए थे। वहीं पिछले साल दिसंबर में ममता बनर्जी ने घोषणा की थी कि प्राथमिक स्तर पर 16,500 शिक्षकों की नियुक्ति की जाएगी।