भारत सरकार के तहत सिविल सर्विस में काम करना लोगों के लिए सपने जैसा होता है और काफी फख्र की बात होती है। लेकिन यह जितना आसान लग सकता है, UPSC सिविल सेवा परीक्षा पास करना उतना ही कठिन है। इस साल महामारी की स्थिति की वजह से यूपीएससी आईएएस 2021 उम्मीदवारों को तैयारी के लिए कुछ एक्स्ट्रा समय मिल गया। वैसे IAS 2021 के लिए रजिस्ट्रेशन पहले ही समाप्त हो चुका है।

आयोग ने हाल ही में प्रीलिमनरी परीक्षा को जून 2021 में निर्धारित शेड्यूल से 10 अक्टूबर तक के लिए स्थगित कर दिया है। ऐसे में सभी सिविल सर्विस उम्मीदवारों का ध्यान अब परीक्षा की तैयारी पर होना चाहिए। चलिए जानते है यूपीएससी सिविल सर्विस एग्जाम 2021में अच्छा स्कोर करने के लिए कैसे तैयारी करनी चाहिए।
UPSC IAS प्रारंभिक परीक्षा के सिलेबस में दो पेपर होते हैं
UPSC IAS प्रारंभिक परीक्षा के सिलेबस में दो पेपर होते हैं. पेपर-I इतिहास, भूगोल, राजनीति, अर्थशास्त्र आदि पर आधारित होता है जबकि  पेपर- II  कम्यूनिकेशन, इंटरपर्सनल स्किल,एप्टीट्यूड और डिसिजन मेकिंग जैसे विषयों पर केंद्रित होता है। गौरतलब है कि सिविल सेवा रैंक 1 बनें रहने के लिए  प्रीलिम्स को क्रैक करना पहला कदम है और यह किसी भी तरह से आसान नहीं है।

UPSC सिविल सेवा मेरिट सूची 2021 के टॉप को टारगेट करते हुए , उम्मीदवारों को कुछ एक्स्ट्रा प्रयास करने के लिए तैयार रहना चाहिए। हालांकि  तैयारी पहले ही शुरू हो चुकी होगी और जिन उम्मीदवारों ने अभी तैयारी शुरू नहीं कि है  उन्हें अब सभी चीजों को छोड़कर परीक्षा के लिए लगन के साथ  अध्ययन करने में जुट जाना चाहिए। चूंकि प्रीलीमनरी एग्जाम  में केवल ऑब्जेक्टिव टाइप के प्रश्न पूछे जाते हैं, इसलिए परीक्षा से पहले अलग-अलग तरह की स्टडी मैटिरियल को पढ़ना सही रहता है।
बेहतरीन स्टडी प्लान होना चाहिए
सिलेबस को कवर करने के लिए उम्मीदवारों के पास बेहतरीन स्टडी प्लान होना चाहिए। सिलेबस के हिसाब से प्रत्येक टॉपिक की तैयारी टाइम टेबल के हिसाब से डेडलाइन के भीतर करें। ऐसा करना उम्मीदवारों के लिए मील का पत्थर साबित हो सकता है। उम्मीदवारों को पूरे डेडिकेशन के साथ सिविल सर्विस की तैयारी करनी चाहिए ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि परीक्षा से पहले सिलेबस का कोई हिस्सा छूट ना जाए।

साधारण और सतही तरीके से तैयारी करने से उम्मीदवारों को एक्स्ट्रा स्कोर करने और इस साल सिविल सेवा भर्ती शॉर्टलिस्ट में पहला स्थान हासिल करने में मदद नहीं मिलेगी। निगेटिव मार्किंग को ध्यान में रखते हुए कैंडिडेट्स को प्रीलिम्स पेपर इस तरह से सॉल्व करना चाहिए कि ज्यादा से ज्यादा सही प्रश्नों के जवाब दे सकें। इसके लिए योग्यता, मानसिक क्षमता, विश्लेषणात्मक क्षमता, बुनियादी अंकगणित और डाटा इंटरप्रिटेशन का अच्छे से प्रैक्टिस बेहद जरूरी है। इसके अलावा, उम्मीदवारों को जनरल नॉलिज, अवेयरनेस और स्टडीज के सवालों के जवाब देने के लिए भी अच्छी तरह से तैयार रहना चाहिए।
पिछले कुछ वर्षों के IAS प्रश्न पत्रों से भी तैयारी करें
सैंपल पेपर्स, प्रश्न बैंक और कई गाइड्स IAS की तैयारी के लिए आसानी से उपलब्ध हैं। इनके अलावा उम्मीदवारों को पिछले कुछ वर्षों के IAS प्रश्न पत्रों से भी अपनी तैयारी करनी चाहिए। यह स्मार्ट तैयारी के लिए जरूरी कई महत्वपूर्ण सूचनाओं को समझने और पहचानने में मदद करेगा। उदाहरण के लिए, इस वर्ष पहली बार परीक्षा में बैठने वाले उम्मीदवार पिछले साल के प्रश्न पत्रों के जरिए एग्जाम में पूछे जाने वाले प्रश्नों के प्रकार और पैटर्न को अच्छे से समझ पाएंगे।
IAS मॉक टेस्ट को हल करें
एक अन्य महत्वपूर्ण स्ट्रैटजी अपकमिंग यूपीएससी सिविल सेवा प्रीलिमनरी परीक्षा के लिए मॉक टेस्ट सॉल्व करना है। IAS मॉक टेस्ट को हल करने से उम्मीदवारों की टाइम मैनेजमेंट कैपेबिलिटीज में सुधार हो सकता है। यह उम्मीदवारों को परीक्षा में अच्छे प्रयासों की कुल संख्या में सुधार करने में मदद करेगा और इसलिए, निर्धारित कट-ऑफ की तुलना में हायर स्कोर करने की संभावना रहती है।
कई अन्य स्ट्रैटजी अपनाकर भी कर सकते हैं तैयारी
इनके अलावा भी कई स्ट्रैटजी हैं जिन्हें उम्मीदवार अपने दम पर परीक्षा में टॉप करने के लिए अपना सकते हैं। एक्सटेंसिव सेल्फ स्टडी, कॉन्सेप्ट की क्लियर समझ, महत्वपूर्ण तथ्यों और आंकड़ों को याद रखना, एक्सटेंसिव प्रैक्टिस ऑफ एप्टिट्यूड टेस्ट और न्यूमरिकल प्रश्नों की व्यापक प्रैक्टिस आदि कुछ अन्य जरूरी स्ट्रैट्जी हैं जो किसी की IAS की तैयारी को एक नए लेवल पर ले जाती हैं। उम्मीदवारों को अपनी सेल्फ स्टडीज की जरूरतों की पहचान करनी चाहिए और उसी के अनुसार अगला सिविल सर्विस ऑल इंडिया फर्स्ट रैंक होल्डर बनने के लिए स्ट्रैटजी तैयार करनी चाहिए।