मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में रोजगार की मांग को लेकर बुधवार को प्रदर्शन कर रहे बेरोजगार युवाओं को तितर-बितर करने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज किया. वैसे पुलिस का कहना है कि इन पर न्यूनतम बल का प्रयोग किया गया.

प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि पुलिस ने प्रदर्शनकारी बेरोजगार युवाओं पर उस वक्त लाठीचार्ज शुरू किया जब इन प्रदर्शनकारियों ने खाली पड़े शासकीय पदों को भरने और उन्हें नौकरी देने की अपनी मांगों के समर्थन में शहर के नीलम पार्क से मुख्यमंत्री आवास तक पैदल मार्च शुरू किया.

उन्होंने कहा कि लाठीचार्ज के बाद पुलिस ने नारेबाजी कर रहे इन युवकों को गिरफ्तार भी कर लिया. इस बीच, प्रदर्शन कर रहे युवकों पर पुलिस लाठीचार्ज के कई वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल भी हो गये.

ये प्रदर्शनकारी प्रदेश के विभिन्न हिस्सों से भोपाल में ‘मूवमेंट अगेंस्ट अनइंप्लॉयमेंट’ के झंडे तले एकत्र हुए थे. प्रदर्शनकारियों ने आरोप लगाया कि मध्य प्रदेश सरकार ने पिछले कई सालों से खाली पड़े पदों पर भर्ती नहीं निकाली है, जिससे बेरोजगार युवा अब रोजगार पात्रता की आयु पार कर रहे हैं. एक प्रदर्शनकारी ने बताया कि गिरफ्तारी के बाद पुलिस ने हमें शहर से काफी दूर छोड़ दिया.

जहांगीराबाद पुलिस थाना प्रभारी वीरेन्द्र चौहान ने बताया कि इन बेरोजगार युवाओं का प्रदर्शन शहर के टी टी नगर पुलिस थाना इलाके स्थित रोशनपुरा में होना तय था, लेकिन ये लोग जहांगीराबाद पुलिस थाना इलाके नीलम पार्क में जमा हो गये और उसके बाद वहां से रोशनपुरा जाने के लिए राजभवन की ओर दौड़ लगाने लगे और उन्होंने रास्ता जाम कर दिया.

उन्होंने कहा, ‘‘राजभवन बहुत महत्वपूर्ण स्थान है, इसलिए पुलिस ने उन्हें पुलिस मुख्यालय के पास रोकने की कोशिश की. लेकिन जब वे नहीं माने तो पुलिस ने इन प्रदर्शनकारियों पर न्यूनतम बल का प्रयोग किया.’’

पुलिसकर्मी भी हुए चोटिल

चौहान ने बताया कि इस घटना में चार पुलिसकर्मियों को चोटें भी आईं हैं. पुलिस ने कुछ प्रदर्शनकारियों को हिरासत में भी लिया है. उन्होंने कहा कि इस मामले में पुलिस ने अज्ञात 100 से 150 लोगों के खिलाफ भादंवि की धारा 341, 149 एवं 353 के तहत मामला दर्ज किया है.