कर्नाटक सरकार ने अंडरग्रेजुएट प्रोफेशनल कोर्सेस के लिए कॉमन एंट्रेंस टेस्ट (CET) की जरूरी तारीखों का ऐलान कर दिया है। एग्जामिनेशन अथॉरिटी (KEA) 28 से 30 अगस्त 2021 तक कर्नाटक सीईटी (Karnataka CET) 2021 एग्जाम आयोजित करेगा। राज्य के उप मुख्यमंत्री सी एन अश्वथ नारायण (C N Ashwath Narayan) ने यह सूचना दी है। कर्नाटक सीईटी 2021 के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया 15 जून, 2021 से शुरू होगी।

एक बार आवेदन प्रक्रिया शुरू होने के बाद, इच्छुक और योग्य उम्मीदवार कर्नाटक सीईटी 2021 परीक्षा के लिए आधिकारिक वेबसाइट cetonline.karnataka.gov.in पर जाकर ऑनलाइन आवेदन कर सकेंगे।

कर्नाटक सीईटी 2021 परीक्षा अंडरग्रेजुएट प्रोफेशनल कोर्सेस जैसे मेडिकल, इंजीनियरिंग, टेक्नोलॉजी, योगा और प्राकृतिक चिकित्सा, कृषि विज्ञान और फार्मा कोर्सेस समेत कई कोर्सेस में एडमिशन के लिए कर्नाटक कॉमन एंट्रेंस टेस्ट (KCET) आयोजित किया जाता है। इस परीक्षा में भाग लेने वाले छात्रों द्वारा प्राप्त अंकों को देखते हुए रैंक के आधार पर दाखिला होगा।

कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री सी एन अश्वथ नारायण ने मंगलवार को अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल अकाउंट पर कर्नाटक सीईटी 2021 परीक्षा का शेड्यूल शेयर किया। उन्होंने ट्वीट किया, "प्रोफेशनल कोर्सेस में एडमिशन के लिए केवल सीईटी अंकों पर विचार किया जाएगा। हम ग्रेजुएट कॉलेजों और अन्य पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए जरूरी कदम उठा रहे हैं। हम सीईटी के माध्यम से साइंस ग्रेजुएट कोर्सेस में प्रवेश का मूल्यांकन कर रहे हैं।"

इससे पहले, कर्नाटक सीईटी 2021 परीक्षा 7 और 8 जुलाई, 2021 को आयोजित होने वाली थी, जिसे बाद में राज्य भर में कोरोना वायरस (COVID 19) मामलों में तेजी देखते हुए स्थगित कर दिया गया था। कर्नाटक सीईटी परीक्षा 28 से 30 अगस्त 2021 को राज्य भर में फेले 500 एग्जाम सेंटर्स पर आयोजित की जाएगी। एग्जाम दो शिफ्ट में आयोजित किया जाएगा। 28 अगस्त, 2021 को बायोलॉजी और मैथ्स का एग्जाम होगा जबकि फिजिक्स और केमिस्ट्री की परीक्षा 29 अगस्त को आयोजित की जाएगी।

उन्होंने बताया कि, कोविड-19 स्थिति के कारण सीईटी के लिए न्यूनतम पात्रता अंकों में कमी की गई थी। “आमतौर पर छात्रों को केसीईटी के लिए द्वितीय पीयूसी में पीसीएम (फिजिक्स, केमिस्ट्री, मैथ्स) में 45 प्रतिशत (एससी / एसटी / ओबीसी के लिए 40 प्रतिशत) निर्धारित किया गया है। इस साल के एकेडमिक ईयर के लिए न्यूनतम प्राप्त अंक के लिए इसमें ढील दी गई है। उन्होंने साफ किया कि, इंजीनियरिंग कोर्सेस में पीसीएम में प्राप्त अंकों के आधार पर एडमिशन दिया जाएगा। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि, "वार्षिक परीक्षाओं से पीसीएम अंकों और केसीईटी को समान अनुपात में विचार करने की पुरानी प्रक्रिया इस साल लागू नहीं होगी।"