छत्तीसगढ़ में विधानसभा चुनाव (Assembly elections in Chhattisgarh) में कांग्रेस ने अपने जन घोषणा पत्र में राज्य में पूर्ण शराबबंदी का वादा किया था. सरकार बनने के बाद कांग्रेस ने अब तक शराबबंदी Congress has not banned liquor till now)  तो नहीं की, लेकिन समय समय पर सरकार की ओर से कहा जाता रहा है कि शराबबंदी की ओर कदम बढ़ाए जा रहे हैं. 

इस बीच राज्य की कांग्रेस सरकार में महिला और बाल कल्याण मंत्री अनिला भेड़िया (Women and Child Welfare Minister Anila Bhendia)  की एक सलाह चर्चा का विषय बनी हुई है. मंत्री ने एक कार्यक्रम के दौरान गांव के लोगों को शराब पीने की सलाह दे दी. इसके बाद मंत्री के इस बयान की खूब चर्चा हो रही है.

मंत्री अनिला भेड़िया ( Minister Anila Bhediya) अपनी इस सलाह में शराब पीने (drink alcohol)  के लिए कहा. बीते गुरुवार को मंत्री ने एक गांव में लोगों को संबोधित करते हुए कहा था कि थोड़ी-थोड़ी पी लिया करो और सो जाया करो. मंत्री की इस अजीब सलाह की सोशल मीडिया पर खूब चर्चा हो रही है. विरोधी मंत्री को घेरने में लगे हैं.

शराब पीने की सलाह के बाद उपजे विवाद पर अनिला भेड़िया ने कहा कि उनके बयान को तोड़-मरोड़कर पेश किया गया. उन्होंने इसे एक राजनीतिक शरारत करना बताया. मीडिया से चर्चा में अनिला ने कहा कि मैं उन पुरुषों को संबोधित कर रही थी जो शराब के आदी हो चुके हैं. मैंने उन्हें थोड़ा पीने की सलाह दी.

उन्होंने स्पष्टीकरण देते हुए कहा कि मैंने वहां पर लोगों को सलाह दी थी कि महिलाओं को घर के कामकाज के चलते काफी तनाव झेलना पड़ता है. इसलिए मैंने पुरुषों से शराब छोड़ने की बात कही थी. बता दें कि दो बार विधायक रह चुकी मंत्री अनिला राजधानी रायपुर से 120 किमी दूर बालोद जिले के सिंहोला गांव में आयोजित एक कार्यक्रम में शामिल हुईं थीं. यह गांव उनके विधानसभा क्षेत्र में आता है. मंत्री को बताया गया था कि उनके इलाके में शराब की खपत काफी बढ़ गई है.