केंद्र सरकार के तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली-हरियाणा के सिंघु बॉर्डर (Singhu border of Delhi-Haryana) पर किसान पिछले काफी महीनों से आंदोलन कर रहे हैं।  इस बीच सिंघु बॉर्डर पर एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है।  किसानों के मंच के पास एक युवक की बेरहमी से हत्या के बाद एक हाथ काटकर शव बैरिकेड से लटका दिया गया है।  जबकि यह घटना गुरुवार रात हुई है।  यही नहीं, युवक के शव को 100 मीटर तक घसीटा गया है।  वहीं, जब शुक्रवार की सुबह आंदोलनकारियों (Agitators) के मुख्य मंच के पास युवक शव लटका दिखा तो हड़कंप मच गया। 

यही नहीं, युवक के शरीर पर धारदार हथियार (Sharp weapon) से हमले के निशान हैं।  इस बीच एक हाथ कटा शव मिलने से सुबह से ही आंदोलनकारियों की भीड़ घटना स्थल पर जुटी हुई है। वहीं, आंदोलनकारी कुंडली थाना पुलिस (Kundli police station) को भी मौके पर नहीं आने दे रहे हैं।  इस वक्त किसान जमकर हंगामा कर रहे हैं।  हालांकि कुछ लोग निहंगों (Nihangs) पर इस घटना का आरोप लगा रहे हैं। जबकि युवक पर गुरु ग्रंथ साहिब (Guru Granth Sahib) की बेअदबी का आरोप है। 

सूचना के बाद कुंडली थाना प्रभारी रवि कुमार मौके पर पहुंचे।  युवक की पहचान करने की कोशिश की जा रही है।  पुलिस फिलहाल मामले में ज्यादा जानकारी देने से बच रही है।  निहंगों का आरोप है कि युवक को साजिश के तहत यहां भेजा गया था।  इसके लिए उसे 30 हजार रुपए दिए गए थे।  युवक ने यहां पवित्र गुरु ग्रंथ साहिब का अंग भंग किया।  

निहंगों को इसका पता चला तो उसे पकड़ लिया गया।  घसीटते हुए निहंगों के पंडाल ट्रैक्टर एजेंसी के पास लाया गया।  बताया जा रहा है कि युवक से पूछताछ, घसीटने समेत पूरी वारदात की वीडियो भी बनाई गई, जो अभी सामने नहीं आई है।  निहंग डेड बॉडी भी उतारने नहीं दे रहे थे।  मौके पर एक पत्रकार ने फोटो लेने की कोशिश की तो उसे धमकी देते हुए फोन वापस जेब में डालने के लिए कहा।  बलदेव सिरसा मौके पर पहुंचे तब पुलिस को डेड बॉडी उतारने दी गई।