मध्य प्रदेश के जबलपुर में प्रशासन ने भू-माफियाओं के (Action against the land mafia)  खिलाफ बड़ी कार्रवाई की है। माफिया विरोधी अभियान (Anti-mafia campaign) के तहत जबलपुर में पुलिस और जिला प्रशासन ने शनिवार को जोरदार कार्रवाई करते हुए भू-माफियाओं के कब्जे से 12 हजार वर्गफीट अवैध ( Illegal land from the possession) भूमि को मुक्त कराया है।

इसकी जानकारी जनसम्पर्क एमपी ने अपने सोशल माइक्रोब्लॉगिंग ऐप Koo के ऑफिशियल अकाउंट के माध्यम से दी है। इस पोस्ट में कहा गया है, "जबलपुर में माफिया पर बड़ी कार्रवाई

माफिया विरोधी अभियान के तहत जबलपुर में पुलिस और जिला प्रशासन ने की बड़ी कार्रवाई, भू-माफियाओं के कब्जे से 12 हजार वर्गफीट अवैध भूमि मुक्त कराई गई।

बता दें कि जबलपुर में भू-माफियाओं के (Administration against the land mafia) खिलाफ प्रशासन की कार्रवाई जारी है। रद्दी चौकी के करीब भू माफिया ने पार्क की जमीन पर अवैध कब्जा कर गोदाम बना लिए थे। वहीं कब्जामुक्त कराई गई जमीन की कुल कीमत डेढ़ कराेड़ रुपए से ज्यादा की बताई जा रही है। प्रशासन ने सुबह ही जेसीबी की मदद से आठ गोदामों को जमींदोज कर दिया था। दरअसल, यहाँ भू माफिया व्यापारिक गतिविधियां संचालित कर रहे थे।

तहसीलदार आधारताल राजेश सिंह के अनुसार, माफिया विरोधी अभियान के तहत की जा रही इस कार्रवाई में अभी तक मोहम्मद शफीक द्वारा एक हजार वर्ग फुट पर अवैध रूप से बनाए गए गोदाम को गिरा दिया गया है। इस भूमि की अनुमानित कीमत लगभग तीस लाख रुपये है। इसी तरह, मोहम्मद खलील यहाँ 15 सौ वर्गफुट भूमि पर कब्जा कर कबाड़ का व्यवसाय कर रहा था जिसे हटा दिया गया है। इस भूमि की कीमत 45 लाख रुपए है।

इसके साथ ही, सामने आई जानकारी के अनुसार, ताज खान द्वारा 2 हजार 700 वर्गफुट भूमि पर अवैध निर्माण कर गोदाम बनाए गए थे। इसे भी हटा दिया गया है और इस भूमि की कीमत लगभग 81 लाख रुपए है। मोहम्मद खालिद द्वारा लगभग एक हजार वर्ग फुट पर अवैध निर्माण कर गोदाम बनाया गया था, जिसे भी ध्वस्त कर दिया गया है। इस भूमि की कीमत लगभग 30 लाख रूपए बताई जा रही है। 

ऐसा बताया जा रहा है कि भू-माफिया इस अवैध कब्जों से हर महीने हजारों रूपए की कमाई कर रहे थे। हालाँकि, अब प्रशासन ने अवैध रूप से कब्जाई गई जमीन को मुक्त करा दिया है।