नेशनल फिल्म अवॉर्ड समारोह में सुशांत सिंह राजपूत की 'छिछोरे' को सर्वश्रेष्ठ हिंदी फिल्म का पुरस्कार मिला है। आज 67वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार सेरेमनी का आयोजन किया गया। कोरोना वायरस महामारी के चलते यह सेरेमनी एक साल लेट हुई। हर साल 3 मई को होने वाली इस अवॉर्ड सेरेमनी का आयोजन नेशनल मीडिया सेंटर में हुआ, जहां पर केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों की घोषणा की। 

इस सेरेमनी में Central Board of Film Certification द्वारा 1 जनवरी 2019 से लेकर 31 दिसंबर 2019 तक सर्टिफाइड की गई फिल्मों को पुरस्कार वितरण के लिए एंट्री दी गई है। पुरस्कारों के लिए आखिरी एंट्री 17 फरवरी 2020 तक ही रखी गई थी। यह सेरेमनी 2020 में होनी थी, लेकिन उसके बजाए आज हो हुई है जो इस प्रकार है—

इस सेरेमनी में जीतने वाले विजेताओं के नाम—

मोस्ट फिल्म फ्रेंडली स्टेट - सिक्किम 

बेस्ट बुक ऑन सिनेमा - अ गांधियन अफेयर: इंडियाज क्यूरियस पोरट्रायल ऑफ लव इन सिनेमा बाय संजय सूरी 

(स्पेशल मेंशन- लिखक अशोक राणे की सिनेमा पाहणारा माणूस और लेखक पीआर रामदास नायडू की किताब Kannada Cinema: Jagathika Cinema Vikasa-Prerane Prabhava)

बेस्ट फिल्म क्रिटिक - सोहिनी चट्टोपाध्याय 

नॉन फीचर फिल्म केटेगरी 

बेस्ट नरेशन - वाइल्ड कर्नाटक, सर डेविड अटेन्बर्ग 

बेस्ट एडिटिंग - शट अप सोना, अर्जुन गौरीसराई 

बेस्ट ऑटोबायोग्राफी - राधा (म्यूजिकल), ऑल्विन रेगो और संजय मौर्या 

बेस्ट ऑन-लोकेशन साउंड रिकॉर्डिस्ट - रहस (हिंदी), सप्तर्षि सरकार 

बेस्ट सिनेमेटोग्राफी - सोनसी, सविता सिंह 

बेस्ट डायरेक्शन - नॉक नॉक नॉक (इंग्लिश/बंगाली), सुधांशु सरिया 

फैमिली वैल्यूज - Oru Paathiraa Swapnam Pole (मलयालम)

बेस्ट शार्ट फिक्शन फिल्म - कस्टडी (हिंदी/इंग्लिश)