बॉलीवुड के जाने-माने फिल्मकार डेविड धवन को इंडस्ट्री में इंटरटेनर नंबर वन के रूप में शुमार किया जाता है और उन्होंने अपनी बनायी फिल्मों से दर्शकों का भरपूर मनोरंजन किया है। सोलह अगस्त 1955 को त्रिपुरा के अगरतला में जन्मे डेविड धवन को बचपन के दिनों से ही फिल्में देखने का बेहद शौक था। पुणे फिल्म इंस्टीट्यूट में पढ़ाई पूरी करने के बाद वह मुंबई आ गये। इसके बाद उन्होंने फिल्मी दुनिया में कदम रखा। एक दौर ऐसा भी था जब इंडस्ट्री में डेविड और गोविंदा की जोड़ी को सुपरहिट माना जाता था, क्योंकि दोनों ने साथ में कई फिल्में कर दर्शकों का दिल जीत लिया था, लेकिन आप शायद ही जानते होंगे कि आज डेविड और गोविंदा एक दूसरे से नजरें भी नहीं मिलाते हैं। 

ये खबरें तो पहले से ही थी कि डेविड और गोविंदा के बीच अब पहले जैसे रिश्ते नहीं रहे, लेकिन दोनों ने कभी भी अपने मनमुटाव के बारे में खुल कर नहीं बोला था। हालांकि गोविंदा ने इस बाबत पूरी कहानी बयां की थी- " 6 से 7 साल हो गए डेविड से मेरी बात नहीं हुयी, एक दिन उन्होंने मेरे सेक्रेटरी को कहा था कि जाओ गोविंदा से कहो की अब वो हीरो नहीं रह गए। उन्हें जो भी काम छोटा-मोटा मिल रहा है कर लें। जब डेविड ये कह रहे थे तो मैं ये बात सुन रहा था क्योंकि मेरे सेक्रेटरी का फोन स्पीकर पर था। डेविड ने जब मेरे लिए ऐसी भाषा का इस्तेमाल किया तो मैं न सिर्फ भौचक्का हो गया बल्कि बुरी तरह से हर्ट हो गया। मुझे समझ नहीं आया कि डेविड ने ऐसा क्यों कहा। ये सारी बाते मैंने खुद सुनी क्यूंकि मैंने ही अपने सेक्रेटरी को कहा था कि जिस समय तुम डेविड से तुम बात करोगे, अपना फोन स्पीकर पर रखना।" 

गोविंदा की माने तो डेविड उनके लिए सिर्फ एक निर्देशक नहीं थे। वो दोस्त से बढ़कर परिवार के सदस्य की तरह थे, लेकिन इस घटना के बाद डेविड कभी उनका सामना नहीं कर पाए। मालूम हो कि राजा बाबू, कुली नंबर1, साजन चले ससुराल, हीरो नम्बर1, जोड़ी नम्बर1 और पार्टनर सहित कई फिल्मों में डेविड धवन और गोविंदा की जोड़ी ने कमाल दिखाया है। लोग तो डेविड धवन के स्टार बेटे को छोटा गोविंदा कह कर भी पुकारते हैं।