कल बुधवार 26 मई को साल का पहला चंद्र ग्रहण लगने वाला है। यह ग्रहर साल का पहला और आखरी सुपर ग्रहण होगा क्योंकि इस ग्रहण में चांद सुपर करीब दिखेगा और लाल रंग का दिखेगा। यह खगोलिय घटना बहुत ही अद्भूत होने वाली है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार ग्रहण के दौरान तेल लगाना, जल पीना, बाल बनाना, कपड़े धोना और ताला खोलने जैसे कार्य नहीं करने चाहिए।


चंद्र ग्रहण के दौरान ये ना करें-

बताया जा रहा है कि ग्रहण काल में भोजन करने वाले मनुष्य जितने अन्न के दाने खाता है, उसे उतने सालों तक नरक में वास करना पड़ता है। मान्यता है कि ग्रहण काल में सोने से व्यक्ति रोगी होता है। जानकारी के लिए बता दें कि ग्रहण में तीन प्रहर का भोजन करना वर्जित माना जाता है। ग्रहण के दिन पत्ते, तिनके, लकड़ी और फूल आदि नहीं तोड़ने चाहिए। ग्रहण काल में कोई भी शुभ कार्य नहीं करना चाहिए।
चंद्र ग्रहण में ये काम करें-

चंद्र ग्रहण शुरू होने से पहले खुद को शुद्ध कर लें। स्नान आदि कर लेना शुभ माना जाता है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार ग्रहण काल में अपने इष्ट देव या देवी की पूजा अर्चना करना शुभ होता है। चंद्र ग्रहण में दान करना बेहद शुभ माना जाता है। ग्रहण समाप्त होने के बाद घर में गंगा जल का छिड़काव करना चाहिए। ग्रहण खत्म होने के बाद एक बार फिर स्नान करना चाहिए। ग्रहण काल के दौरान खाने-पीने की चीजों में तुलसी की पत्ती डालनी चाहिए।