कोरोना काल में लंबे इंतजार के बाद विवाहों की छड़ी लगने वाली है। ग्रहों क स्थिति बहुत ही अच्छी है। इसी कड़ी में 19 अप्रैल को शुक्र उदय हो जाएंगे। चार महीनों से बंद पड़े वैवाहिक कार्य अब फिर से शुरू हो जाएंगे। ज्योतिषों का अनुसार शुक्र 19 अप्रैल को मध्य रात्रि 12:27 बजे उदय हो जाएगा। शुक्र उदय होने के समय वर्षा, मेघ आडंबर, आंधी और तूफान आदि का प्रकोप रहता है।


शुक्र के अस्त होने से विवाह कार्य नहीं किए जाते हैं। लेकिन अब शुक्र उदय हो जाएंगे तो सभी शुभ कार्य शुरू हो जाएंगे। 25 अप्रैल को पहला विवाह मुहूर्त है और इसके बाद 18 जुलाई को अंतिम विवाह मुहूर्त होगा। ऐसे में 25 अप्रैल से 18 जुलाई के बीच विवाह के लिए 38 शुभ मुहूर्त होंगे। अकेले मई में सर्वाधिक 15 विवाह मुहूर्त रहेंगे।


विवाह मुहूर्तों के अलावा दो अनुसूझ विवाह के मुहूर्त भी हैं जिसमें अक्षय तृतीया 14 मई और भडरिया नवमी 18 जुलाई हैं। अनसूझ वैवाहिक मुहूर्त में उन सभी युवक-युवतियों का विवाह हो सकता है जिनका किसी कारण से शुभ मुहूर्त नहीं निकल पा रहा है। बीते वर्ष कोरोना के चलते विवाह बहुत कम हो पाए थे।