हिन्दू धर्म में कई देवताओं का जिग्र किया गया है। इनमें से तीन प्रमुख देवता हैं- ब्रह्मा, विष्णु और महेश। ये देवता सबसे बड़े माने जाते हैं। धरती की उत्पत्ती को लेकर इनकी सबसे बड़ी भूमिका मानी जाती है। इसी तरह से साधारण मानव इन तीनों को प्रकृति तत्वों में खोजने का प्रयास करता रहता है।
तीनों के ही मनुष्य ने साकार रूप गढ़ने के लिए सर्वप्रथम भगवान ब्रह्मा को शंख, शिव को शिवलिंग और भगवान विष्णु को शालिग्राम रूप में सर्वोत्तम माना है। बता दें कि हम शिवलिंग और शालिग्राम की बात ना कर अभी वास्तु की बात करते हैं तो कौनसे दो पत्थर घर में रखने से किस्मत पलटने की ताकत रखते हैं के बारे में बात करते हैं।
अंडाकार सफेद पत्थर और आत्मरत्न ये पत्थर ऐसे हैं जो इंसान की किस्मत बदलने की ताकत रखते हैं। आइए जानते हैं इन खास पत्थरों के बारे में-
सबसे पहले अंडाकार सफेद पत्थर के बारे में बात करें तो इनका घर में होना चाहिए। यह पत्थर संगमरमर या किसी ठोस सफेद पत्थर का भी हो सकता है। इसे कुछ लोग अपनी जेब में भी रखते हैं। बता दें ये यह गोदंती के समान होता है। कहते हैं कि इस तरह के पत्थतर को रखने का चमत्कारिक लाभ मिलता है। धन और समृद्धि के रास्ते फटाफट खुलते हैं और मानसिक शांति भी बनी रहती है।




आत्मरत्न पत्थरों के बारे में करें तो यह पत्थर समुद्र किनारे मिलते हैं। समुद्र में हजारों रंग-बिरंगे पत्थर मिल जाएंगे, जो अद्भुत होंगे। ये पत्थर बहुत ही खूबसूरत होते हैं। इनमें से ही किसी भाग्यशाली को ऐसा भी पत्थर मिल सकता है, जो किस्मत को बदलने वाला हो। समुद्र में तैरने वाले पत्थर भी होते हैं। नाविक और समुद्र में ही रहने वालों के लिए ये पत्थर बहुत काम आते हैं

ध्यान दें हिन्दू पौराणिक ग्रंथों में 'आत्मरत्न'  जो चमत्कारिक रूप से लाभ देने वाला रत्न माना जाता है। यह अंडाकार होता है। इस रत्न को सोने या चांदी की अंगूठी में जड़वाकर पहनने से कोई दिव्य आत्मा हमेशा उसकी रक्षा करती है। इस रत्न की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि इसे गौर से देखने पर इसकी लकीरें हिलती-डुलती नजर आती हैं।