कल अमावस्या है और सनातन धर्म में अमावस्या का खास महत्व होता है। अमावस्या के दिन तर्पण, दान, स्नान आदि किया जाता है। इस बार ज्येष्ठ माह की अमावस्या सोमवार के दिन पड़ रही है। जैसे कि हम जानते हैं कि सोमवार के दिन पड़ने वाली अमावस्या का खास महत्व होता है। इस बार ये साल की आखिर सोमवती अमावस्या होगी।


इतना ही नहीं, इस दिन वट सावित्री व्रत और शनि जंयती का भी विशेष संयोग बन रहा है। इस दिन पितरों के लिए किया गया दान, स्नान और तर्पण का महत्व और भी ज्यादा बढ़ जाता है। पितरों को संतुष्ट करने और उनकी कृपा प्राप्ति के लिए अमावस्या के दिन 7 चीजों का दान किया जाता है। पितरों के आशीर्वाद से घर में धन-धान्य की वृद्दि होती है और परिवार के सदस्य खूब तरक्की करते हैं।

अमावस्या का दिन-

ज्येष्ठ माह के दिन किया गया दान पितरों को संतुष्ट कर उन्हें प्रसन्न करता है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार इस दिन 7 चीजों चावल, गेंहूं, जौ, कंगनी, चना, मूंग दाल, तिलदान का विशेष लाभदायी बताया गया है।