कल का दिन बहुत ही खास है। कल विद्या की देवी मां सरस्वती (Maa Saraswati) का जन्मदिन है। कल मां सरस्वती की पूजा की जाएगी। इनका आशीर्वाद पाने के लिए पूजा पाठ और व्रत भी किया जाता है। बता दें कि बसंत का मौसम की शुरूआत मां सरस्वती की पूजा से शुरू होती है लेकिन इस पूरे महिने में भगवान श्रीकृष्ण (Lord Shri Krishna) की खास पूजा की जाती है।


जैसे कि हम जानते हैं कि इस मौसम में प्रकृति पुरानी चीजों को त्यागकर अपना नए तरीके से शृंगार करती है। गीता में बसंत के मौसम के बारे में श्रीकृष्ण भगवान ने कहा है कि ‘सभी ऋतुओं में मैं बसंत हूं’ यानी उन्होंने बसंत (Basant Panchami) के मौसम को स्वयं का स्वरूप बताया है। 5 फरवरी को शनिवार के दिन से बसंत का मौसम शुरु हो जाएगा। श्री कृष्ण के कुछ मंत्रों का जाप करके अपनी तमाम परेशानियों को दूर कर सकते हैं।
संकटों को दूर करने के लिए

– कृं कृष्णाय नम:


यदि आप जीवन में तमाम कष्टों से घिरे हुए हैं, तो आपको श्रीकृष्ण के इस मंत्र का नियमित रूप से 108 बार जाप करना चाहिए। कहा जाता है कि इस मंत्र से बड़ी से बड़ी मुश्किल भी आसानी से समाप्त हो जाती है।
धन के लिए

– ॐ श्रीं नम: श्री कृष्णाय परिपूर्णतमाय स्वाहा
मुश्किलों से बचने के लिए

– हे कृष्ण द्वारकावासिन् क्वासि यादवनन्दन, आपद्भिः परिभूतां मां त्रायस्वाशु जनार्दन

दुख तनाव दूर करने के लिए

– ॐ देविकानन्दनाय विधमहे वासुदेवाय धीमहि तन्नो कृष्ण:प्रचोदयात
श्रीकृष्ण का द्वादशाक्षर मंत्र

– ॐ नमो भगवते श्री गोविन्दाय
पाप से मुक्ति के लिए

– आदौ देवकी देव गर्भजननं, गोपी गृहे वद्र्धनम्, माया पूतं जीव ताप हरणं गौवद्र्धनोधरणम्, कंसच्छेदनं कौरवादिहननं, कुंतीसुपाजालनम्, एतद् श्रीमद्भागवतम् पुराण कथितं श्रीकृष्ण लीलामृतम्, अच्युतं केशवं रामनारायणं कृष्ण:दामोदरं वासुदेवं हरे, श्रीधरं माधवं गोपिकावल्लभं जानकी नायकं रामचन्द्रं भजे।