मध्यप्रदेश की धार्मिक नगरी उज्जैन में आज बहुत ही धार्मिक कार्य होने वाला है। यहां आज भगवान महाकालेश्वर की शाही सवारी निकलेगी। श्री महाकालेश्वर मंदिर प्रबंधन ने बताया है कि भगवान श्री महाकालेश्वर की भाद्रपद माह में निकलने वाली सवारियों के क्रम में तीसरी सवारी (शाही सवारी) निकलेगी। बता दें कि इस शाही सवारी में भगवान श्री चन्द्रमौलीश्वर चांदी की पालकी में विराजित होकर संपूर्ण राजसी ठाट-बाट के साथ नगर भ्रमण करेंगे।

इसके साथ ही श्री मनमहेश हाथी पर और श्री शिव-तांडव, श्री उमा-महेश, श्री घटाटोप, श्री सप्तधान मुखारविन्द व श्री होल्कर स्टेट का मुखारविन्द रथ पर विराजित होकर भक्तों को दर्शन देंगे। मंदिर के सभामंडप में पूजन के बाद पालकी मुख्य द्वार से श्री बडा गणेश मंदिर के सामने से होते हुए हरसिद्धि मंदिर के समीप से होकर नृसिंह घाट रोड, सिद्धाश्रम के सामने से क्षिप्रा तट रामघाट पहुंचेगी। रामघाट पर मॉं क्षिप्रा के जल से बाबा श्री महाकालेश्वर के अभिषेक पूजन पश्चात सवारी रामानुजकोट, हरसिद्धी पाल से हरसिद्धी मंदिर पर मां हरसिद्धी एवं बाबा महाकाल की आरती के बाद श्री बड़ा गणेश मंदिर के सामने से होते हुए श्री महाकालेश्वर मंदिर वापस आयेगी।


मंदिर प्रबंध समिति के प्रशासक नरेन्द्र सूर्यवंशी ने बताया कि संपूर्ण सवारी मार्ग को आकर्षक बनाने के लिये आधुनिक सज्जा के उपायों द्वारा सुसज्जित, सुन्दर व भव्य बनाने का कार्य किया जा रहा है। साथ ही जगह- जगह पर आधुनिक तकनीक साधनों के माध्यम से आतिशबाजी एवं पुष्प वर्षा भी की जाएगी, जो कि बहुत ही मोहित होगा। इस दौरान व्यवस्था में लगे सभी लोगों को कोरोना संबंधी दिशा निदेर्शों का पालन करना अनिवार्य रहेगा। इस कार्यक्रम में सीमित संख्या में अधिकृत व्यक्ति ही शामिल हो सकेंगे।