हर माह में कृष्ण पक्ष की अंतिम तिथि को अमावस्या के नाम से जाना जाता है। इस समय सावन का महीना चल रहा है। बता दें सावन में पड़ने वाली अमावस्या को सावन या श्रावण अमावस्या के नाम से जाना जाता है। जैसे कि हम जानते है कि सावन का महीना भगवान शंकर को समर्पित होता है। सावन अमावस्या के दिन भगवान शंकर और माता पार्वती की पूजा की जाती है। पूजा करने से सभी तरह के कष्टों से मुक्ति मिल जाती है। 

जानकारी के लिए बता दें कि इस दिन विष्णु भगवान की पूजा का भी विशेष महत्व होता है। सावन अमावस्या को हरियाली अमावस्य के नाम से भी जाना जाता है। 

श्रावण अमावस्या मुहूर्त

श्रावण, कृष्ण अमावस्या प्रारम्भ - 07:11 पी एम, अगस्त 07

श्रावण, कृष्ण अमावस्या  समाप्त - 07:19 पी एम, अगस्त 08

श्रावण अमावस्या का महत्व

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार श्रावण अमावस्या का बहुत अधिक महत्व होता है।

इस पावन तिथि पर पितर संबंधित कार्य करने से पितरों का आर्शीवाद प्राप्त होता है। 

इस पावन दिन दान करने से कई गुना अधिक फल की प्राप्ति होती है।