आज छोटी दिवाली (Diwali) का त्योहार है और आज छोटी दिवाली के साथ साथ नरक चतुर्दशी (Narak Chaturdashi) है। बता दें कि आज कार्तिक मास (Kartik month) के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को नरक चतुर्दशी मनाई जाती है। आज के दिन भगवान श्रीकृष्ण (Lord Krishna) ने नरकासुर नाम के असुर का वध किया था।

मान्यता के मुताबिक आज नरक चतुर्दशी के दिन सुबह स्नान करके यमराज (Yamraj) की पूजा करनी चाहिए और शाम को दीपदान करने से नर्क (Narak) की यातनाओं से मुक्ति मिलती है। आज के दि खास कार्य करने से काफी फायदा होता है। तो जानिए आज के दिन क्या क्या करें-

नरक चतुर्दशी (Narak Chaturdashi) के दिन करें ये काम-

1. नरक चतुर्दशी (Narak Chaturdashi) के दिन घर की साफ-सफाई करनी चाहिए। मान्यता है कि साफ और पवित्र स्थान पर ही मां लक्ष्मी का वास होता है। घर पर टूटे-फूटे सामान को नरक का प्रतीक माना जाता है। इसलिए घर से बेकार के सामान को बाहर कर देना चाहिए।

2. आज के दिन स्नान करने के बाद माथे पर तिलक लगाकर दक्षिण दिशा की ओर मुख करके पूजा करनी चाहिए।

3. कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को हनुमान जी (Hanuman ji) का जन्म हुआ था। इसलिए इस दिन बजरंग बली की पूजा करने से शुभ फलों के प्राप्त होते हैं।

4. नरक चतु्र्दशी के दिन मृत्यु के देवता यमराज (Yamraj) को प्रसन्न करने के लिए पूजा की जाती है। इस दिन एक पात्र में तिल वाला जल भरें और दक्षिण दिशा की तरफ मुख करके यमराज का तर्पण करें।

5. नरक चतुर्दशी के दिन शाम को 14 दीपक जलाने की परंपरा है। सूर्योदय से पूर्व स्नान करने के बाद घर के बाहर नाली के पास तिल के तेल का दीपक जलाना चाहिए। शाम के समय दक्षिण दिशा की ओर मुख करके चौमुखा दीपक जलाना चाहिए।

भूलकर भी न करें ये काम-

1. नरक चतुर्दशी (Narak Chaturdashi) के दिन भूलकर भी किसी जीव को न मारें। इस दिन यमराज की पूजा करने के परंपरा है। मान्यता है कि ऐसा करने से यमराज क्रोधित हो जाते हैं।

2. आज दक्षिण दिशा को गंदा नहीं करना चाहिए। मान्यता है कि ऐसा करने से पितर नाराज होते हैं।

3. नरक चतुर्दशी के दिन तिल के तेल का दान नहीं करना चाहिए। मान्यता है ऐसा करने से मां लक्ष्मी (Maa Lakshmi) नाराज हो सकती हैं।

4. नरक चतुर्दशी के दिन झाड़ू को भूलकर भी पैर नहीं मारना चाहिए और न ही इसे सीधा खड़ा करना चाहिए। मान्यता है ऐसा करने से मां लक्ष्मी का घर में वास नहीं होता है।