छठ पूजा (Chhath Puja 2021) का महा त्योहार चल रहा है। पूजा पाठ और व्रत के साथ महिलाएं खास पकवान बना रही है। जैसे कि हम जानते हैं कि सूर्योपासना का चार दिवसीय छठ महापर्व (Chhath Puja) बीते कल नहाय-खाय के साथ शुरू हुआ और आज खरना (Kharna)का दिन है। यह दिन बहुत ही खास होता है।


 खरना (Kharna) के दिन सुबह से ही घरों में काफी उत्साह रहता है। पहले दिन पूजन स्थल की अच्छी तरह से साफ-सफाई की जाती है। इसके बाद जिन महिलाओं ने व्रत रखा वो शाम को मिट्टी के चूल्हे पर प्रसाद बनाती है। इसमें  अरवा चावल, चने की दाल, कद्दू, लौकी की सब्जी लहसुन प्याज रहित तैयार किया जाता है। व्रती लोगों ने परिवार के साथ भोग लगाकर प्रसाद ग्रहण करती है।
खरना (Kharna) के दिन संगम व गंगा-यमुना (Ganga-Yamuna) में आस्था की डुबकी लगाकर सूर्यदेव से मंगल कामना की गई। पर्व शुरू होते ही घर-आंगन छठ मइया के गीत से गुलजार हो गए। प्रसाद बनाते समय घरों में महिलाएं गीत भी गुनगुनाती रहती है-
पहिले-पहिले हम कइली मइया बरत तोहार,
करिह क्षमा छठी मइया भूल चूक गलती हमार..