आज गणेश चतुर्थी (Ganesh Chaturthi) का पर्व है। आज सर्वप्रथम देवता श्री गणेश जी की पूजा व्रत रखा जाएगा। ज्योतिष के मुताबिक गणेश चतुर्थी पर इस साल शिव योग व रवि योग का शुभ संयोग बन रहा है। शास्त्रों में बताया गया है कि इस तरह के अद्भुत दो शुभ योगों में भगवान गणेश (Ganesh) की पूजा-अर्चना करना बेहद शुभ माना जाता है। आप गजानंद के भक्त हैं तो जरूर पूजा करें।

गणेश जयंती (Ganesh Jayanti) 2022 शुभ मुहूर्त-

04 फरवरी, शुक्रवार को चतुर्थी तिथि सुबह 04 बजकर 38 मिनट से प्रांरभ होगी, जो कि 05 फरवरी शनिवार को सुबह 03 बजकर 47 मिनट पर समाप्त होगी। 04 फरवरी को पूजन का शुभ मुहूर्त सुबह 11 बजकर 30 मिनट से दोपहर 01 बजकर 41 मिनट तक है। पूजन की कुल अवधि 02 घंटा 11 मिनट है।
शुभ योग-

- 4 फरवरी को सुबह 07 बजकर 08 मिनट से दोपहर 03 बजकर 58 मिनट तक रवि योग रहेगा।

- इसके बाद शाम को 07 बजकर 10 मिनट पर शिव योग रहेगा।

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, रवि व शिव योग में किए गए कार्यों का फल कई गुना ज्यादा मिलता है। गणेश जयंती (Ganesh Jayanti) के मौके पर शिव योग का बनना बेहद उत्तम व लाभकारी माना जा रहा है।
गणेश जयंती महत्व-

मान्यता है कि इस दिन भगवान गणेश का जन्म हुआ था। इस दिन भगवान गणेश (Lord Ganesha) की विधि-विधान से पूजा की जाती है। अग्नि पुराण के अनुसार, भगवान श्रीगणेश की जो व्यक्ति विधिवत पूजा करता है, उसे संकटों से मुक्ति प्राप्त होती है। भगवान गणेश की कृपा से घर में सुख-शांति और समृद्धि आती है।