हिन्दू धर्म के मुताबिक हर त्योहार का खास महत्व होता है। साल का पहला त्योहार मकर संक्रान्ति (Makar Sankranti) का ही आता है। अभी यह त्योहार 14 जनवरी शुक्रवार का पड़ रहा है। जैसे कि हम जानते हैं कि इस तिल पतंगे उड़ाई जाती है पेच लड़ाए जाते हैं और साथ ही तिल से बने पकवान भी बनाए और खाए जाते हैं। लेकिन क्या आप जानते हो काले तिल (black sesame) के ही लड्डू क्यो खाए जाते हैं.....

बता दें कि सूर्यदेव (Sun God) जब धनु राशि से निकलकर मकर राशि में जाते हैं, तब मकर संक्रान्ति का त्योहार मनाया जाता है। मकर राशि के स्वामी शनिदेव (Shani Dev) है। हिंदू धर्म में शनिदेव को सूर्यदेव का पुत्र है और शनि देव का काली चीजें बहुत ही ज्यादा पसंद होती है। इसलिए मकर संक्रान्ति के दिन सूर्य देव की पूजा काले तिल से की जाती है। साथ ही काली दाल, चावल, घी, नमक, गुड़ और काले तिल दान किए जाते हैं।

काले तिल और गुड़ के लड्डू बनाकर खाए जाते हैं और दान भी किए जाते हैं. माना जाता है कि इससे सूर्यदेव और शनिदेव (Shani Dev) दोनों की कृपा प्राप्त होती है। काले तिल और गुड़ से बने लड्डू सूर्य और शनि के मधुर संबन्ध का प्रतीक को दर्शाते हैं। साथ ही काले तिल खाने से सर्दियों में शरीर को गर्माहट मिलती है।