आज सोमवार है, आज का दिन भगवान शिव शंकर को समर्पित होता है और कल का दिन की खास बात यह है कि आज के दिन मार्गशीर्ष मास में शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को मोक्षदा एकादशी (Mokshada Ekadashi) का पावन व्रत रखा जाता है। इस दिन ही गीता जयंती (Gita Jayanti) का त्योहार भी मनाया जाता है।

मोक्षदा एकादशी (Mokshada Ekadashi) को लेकर कहा जाता है कि इस व्रत से बढ़कर मोक्ष प्रदान करने वाला कोई दूसरा व्रत नहीं है। मोक्षदा एकादशी का व्रत करने से समस्त पाप दूर हो जाते हैं और पूर्वजों को भी मोक्ष की प्राप्ति होती है।
भगवान श्री हरि विष्णु (Lord Shri Hari Vishnu) को समर्पित इस एकादशी व्रत का लाभ व्रती के साथ पितरों को भी प्राप्त होता है और समस्त पाप दूर हो जाते हैं। इस व्रत में भगवान श्रीकृष्‍ण का स्‍मरण करें एवं गीता पाठ करें। इस एकादशी को ही भगवान श्रीकृष्ण (Lord Krishna) ने अर्जुन को गीता का उपदेश दिया था, इसलिए मोक्षदा एकादशी का महत्व और बढ़ जाता है।