हीरे जवारात और रत्न इंसान के जीवन में कई तरह के प्रभाव डालते हैं। इससे व्यक्ति के जीवन पर अच्छा और बुरा असर पड़ता है। कई तरह की रंग और आकार के रत्न होते हैं जो व्यक्ति के जीवन में तरह के तरह के प्रभाव डालते हैं। इसी तरह से शुक्र का महत्त्व है वैसे ही शुक्र के रत्न ओपल का भी कई महत्व हैं। कुंडली के किसी भी कमजोर ग्रह को बल देने और मजबूत करने के लिए व्यक्ति को उस ग्रह का रत्न धारण कराया जाता है।


बता दें कि ओपल शुक्र का रत्न है जिस पर शुक्र ग्रह का आधिपत्य है और कुंडली में शुक्र कमजोर होने पर ओपल रत्न धारण करने की सलाह दी जाती है। जिससे व्यक्ति की स्थिति अच्छी होती है। जानकारी के लिए बता दें कि कुंडली में शुक्र कन्या राशि में बैठा हो, केतु के साथ हो, दुःख भाव में हो या किसी भी प्रकार कमजोर हो तो ऐसे में व्यक्ति के जीवन में आर्थिक उन्नति नहीं हो पाती। पैसों को लेकर हमेशा समस्याएं बनी रहती हैं।  


ऐसे में शुक्र को बल देने के लिए व्यक्ति को ओपल धारण कराया जाता है। ओपल धारण करने पर व्यक्ति का शुक्र मजबूत होने लगता है। इससे व्यक्ति के व्यक्तित्व में आकर्षण बढ़ता है। जीवन में आर्थिक उन्नति बढ़ती है जिससे आर्थिक पक्ष मजबूत बनता है। जीवन में समृद्धि बढ़ती है और महत्वाकांक्षाओं की पूर्ती होती है। पुरुषों के लिए ओपल धारण करना उनके वैवाहिक जीवन के लिए भी बहुत शुभ देता है। उनके जीवन में मधुरता बढ़ती है और वैवाहिक जीवन स्थिर बना रहता है।