राम का नाम दुनिया में सबसे सच्चा माना जाता है। इसलिए कहते हैं राम का नाम सत्य है। माना जाता है कि राम के नाम की शक्ति असीमित है। उनके नाम से लिखे पत्थतर तैर गए, जिसका सबूत हम श्रीलंका पर राम सेतू पर देख सकत हैं। चैत्र नवरात्रि और श्रीराम नवमी पर रामचरित मानस, वाल्मीकि रामायण, सुंदरकांड आदि के अनुष्ठान की परंपरा रही है।
राम नाम के लिए कई तरह के मंत्रों का जाप किया जाता है।  'राम' यह मंत्र अपने आप में पूर्ण है तथा शुचि-अशुचि अवस्था में भी जपा जा सकता है। यह तारक मंत्र कहलाता है।
'रां रामाय नम:'
यह सकाम जपा जाने वाला यह मं‍त्र राज्य, लक्ष्मी पुत्र, आरोग्य व वि‍पत्ति नाश के लिए प्रसिद्ध है।

'ॐ रामचंद्राय नम:'
यह क्लेश दूर करने के लिए प्रभावी मंत्र है।
'ॐ रामभद्राय नम:'
यह कार्य की बाधा दूर करने के लिए अवश्व प्रभावी है।

'ॐ जानकी वल्लभाय स्वाहा'

यह प्रभु कृपा प्राप्त करने व मनोकामना पूर्ति के लिए जपने योग्य है।
'ॐ रामाय धनुष्पाणये स्वाहा:' शत्रु शमन, न्यायालय, मुकदमे आदि की समस्या से मुक्ति हेतु प्रशस्त है।