साल 2021 में रक्षाबंधन का पर्व 22 अगस्त 2021 को मनाया जाएगा। इस दिन खास बात यह है कि इस साल रक्षाबंधन त्योहार पर न तो भद्रा का साया है और ना ही कोई अशुभ योग है। ज्योतष के मुताबिक रविवार को धनिष्ठा नक्षत्र होने से मातंग योग बनता है। साथ ही शोभन योग भी उस दिन शोभायमान है। मातंग योग का अर्थ - कुल वृद्धि योग और शोभायमान का तात्पर्य होता है भाइयों-बहनों के परस्पर प्रेम का कारक।

ज्योतिष के मुताबिक इस दिन प्रातः 6:15 बजे तक भद्रा समाप्त हो जाएगी। उसके पश्चात शाम 4:30 बजे तक बहनें अपने भाइयों की कलाई में राखी बांध सकती हैं। चूंकि 4:30 से 6:00 तक राहुकाल रहता है, इसलिए यह अवधि श्रेष्ठ नहीं मानी जाती। इसके बाद शाम 6:00 बजे से और रात्रि 9:00 बजे तक राखी बांधी जा सकती है। राखी बांधने का मुहूर्त तो दिनभर है, लेकिन स्थिर लग्न में राखी बांधना और भी शुभ रहता है।

22 अगस्त को राखी बांधने के खास मुहूर्त
-प्रातः 6:15  बजे से 7:51  तक सिंह (स्थिर लग्न)
-मध्यान्ह 12:00 बजे से 14:45 तक वृश्चिक (स्थिर लग्न)
-शाम 18:31 बजे से 19:59 बजे तक कुंभ ( स्थिर लग्न)।