फरवरी माघ मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्थी से हो रहा है। ज्योतिष के मुताबिक इस माह जन्मे लोगों की ग्रहण क्षमता विलक्षण होती है। इनके व्यक्तित्व में बला का आकर्षण और खिंचाव होता है, जिससे लोग आकर्षित हो जाते हैं। यह हर छोटी से छोटी बात को दिल से लगा लेते हैं और इसी कारण बहुत धीरे से प्रगति करते हैं।


स्वभावफरवरी में जन्मे लोगों के अंदर अंतर्बोध यानी इंट्यूशन बहुत तीव्र होता है। ये रहस्यपूर्ण रहना पसंद करते हैं। ये जब प्रसन्न होते हैं तो अति प्रसन्न होते हैं और जब दुखी होते हैं तो पूरी दर्द के सागर में डूब जाते हैं। ये दोस्त बनाने में काफी माहिर होते हैं। यह हर उम्र और वर्ग के लोगों को अपना दोस्त बना लेते हैं और जल्दी ही लोगों में घुल-मिल जाते हैं। इनकी योग्यता और प्रतिभा की तुलना में पद और पैसा दोनों अक्सर नहीं मिलता या कहें कि देर से मिलता है। भाग्य के मामले में थोड़ा पीछे होते हैं या फिर यह कहें कि भाग्य इनका बहुत कम साथ देता है या देर से देता है।

यह भी पढ़ें- देवी सीता माता ने नदी के बीचोबीच की थी शिव जी की पूजा, आज है यहां इतना विशाल मंदिर


लव लाइफफरवरी में जन्मे लोग काफी रोमांटिक स्वभाव के होते हैं क्योंकि वेलेंटाइन डे वाले माह में इनका जन्म होता है। इनके बाहरी सुंदरता पसंद नहीं आती, यह हमेशा अंदर की मासूमियत और सच्चे दिल को देखते हैं। यह हर किसी पर भरोसा कर लेते हैं, इस वजह से ये बैठे-बैठाए धोखा जाते हैं। यह अपने दिल की बात हर किसी से कह देंगे लेकिन जिससे कहना होगा, उसके सामने बिल्कुल चुप हो जाते हैं या कभी उनके सामने खुलकर नहीं कह पाते। इनका प्यार छल-कपट से दूर बेहद गहरा और पवित्र होता है। इनके अंदर पार्टनर को लेकर केवल एक ही शिकायत रहती है कि जिस गहराई से प्यार करते हैं, उनको उतना प्यार दूसरों से नहीं मिल पाता।

यह भी पढ़ें- मालामाल होने के आसान से गजब के टोटके, एक बार करों और खूब पैसा पाओ


करियरफरवरी में जन्मे लोग काफी भावुक होते हैं, इस वजह से करियर में काफी रुकावटों का सामना करना पड़ता है। लेकिन इस पर विजय जल्दी प्राप्त कर लेते हैं। अपने काम के प्रति बहुत ईमानदार और स्पष्ट होते हैं, जिससे इनको अधिकारियों की प्रशंसा मिलती है। कई निर्णयों की वजह से अपने कारोबार में उन्हें क्षति उठानी पड़ती है। ये भूलवश अहंकार को आत्मसम्मान समझ लेते हैं। यह अपने पसंद का करियर चुनते हैं और रचनतात्मक कार्यों में इनका मन लगता है। डॉक्टर, पेंटर, टीचर, लेखक, कंप्यूटर एक्सपर्ट आदि क्षेत्र में इनका बोलबाला रहता है। इनके भीतर संगीत, नृत्य या साहित्य के रूप में कोई न कोई विशेष कला होती है।