दीपावली (Diwali 2021) का त्योहार आ गया है और इस त्योहार में मां लक्ष्मी की विधि विधान के साथ पूजा की जाती है। दिवाली पूजा की पूजन के समय खास बातों का ध्यान रखना बेहद जरूरी होता है। इस बार दीवाली का त्योहार 4 नवंबर 2021 गुरुवार को मनाई जाएगी। इससे पहले धनतेरस (Dhanteras) आएगी।


यह भी पढ़ें- दिवाली पर मां लक्ष्मी की कृपा पाने के लिए छोटा सा आसान सा करें ये काम, फिर देखिए चमत्कार



दिवाली पूजा विधि (Diwali puja vidhi)-


सबसे पहले दिवाली (Diwali puja vidhi) पर ईशान कोण या उत्तर दीशा में साफ सफाई करके स्वास्तिक बनाएं। उसके उपर चावल की ढेरी रखें। अब उसके उपर लकड़ी का पाट बिछाएं। पाट के उपर लाल कपड़ा बिछाएं और उस पर माता लक्ष्मी (mata lakshmi) की मूर्ति या तस्वीर रखें। तस्वीर में गणेश और कुबेर की तस्वीर भी हो। माता के दाएं और बाएं सफेद हाथी के चित्र भी होना चाहिए।पूजन (Diwali puja) के समय पंचदेव की स्थापना जरूर करें। सूर्यदेव, श्रीगणेश, दुर्गा, शिव और विष्णु को पंचदेव कहा गया है। इसके बाद धूप-दीप चलाएं। सभी मूर्ति और तस्वीरों को जल छिड़ककर पवित्र करें।अब खुद कुश के आसन पर बैठकर माता लक्ष्मी (mata lakshmi) की षोडशोपचार पूजा करें। अर्थात 16 क्रियाओं से पूजा करें। पाद्य, अर्घ्य, आचमन, स्नान, वस्त्र, आभूषण, गंध, पुष्प, धूप, दीप, नेवैद्य, आचमन, ताम्बुल, स्तवपाठ, तर्पण और नमस्कार। पूजन के अंत में सांगता सिद्धि के लिए दक्षिणा भी चढ़ाना चाहिए।माता लक्ष्मी (mata lakshmi) सहित सभी के मस्तक पर हलदी कुंकू, चंदन और चावल लगाएं। फिर उन्हें हार और फूल चढ़ाएं। पूजन में अनामिका अंगुली (छोटी अंगुली के पास वाली यानी रिंग फिंगर) से गंध (चंदन, कुमकुम, अबीर, गुलाल, हल्दी आदि) लगाना चाहिए। इसी तरह उपरोक्त षोडशोपचार की सभी सामग्री से पूजा करें। पूजा करते वक्त उनके मंत्र का जाप करें।