हिन्दी पंचांग के अनुसार, आज चैत्र मास के कृष्ण पक्ष की षष्ठी तिथि है। आज 03 अप्रैल 2021 और दिन शनिवार है। आज शीतला सप्तमी है। आज के दिन शीतला माता की पूजा की जाती है। उनकीक कृपा से निरोगी जीवन का आशीष प्राप्त होता है। आज सप्तमी तिथि की क्षय हो रही है। 

भद्रा आज शाम 5 बजे तक रहेगी। आज दिनभर रवि योग बना हुआ है। आज शनिवार के दिन आपको हनुमान जी तथा शनि देव की पूजा करनी चाहिए। आज के पंचांग में राहुकाल, शुभ मुहूर्त, दिशाशूल के अलावा सूर्योदय, चंद्रोदय, सूर्यास्त, चंद्रास्त आदि के बारे में भी जानकारी दी जा रही है।

आज का दिशाशूल: पूर्व।

आज का राहुकाल: प्रात: 09:00 बजे से 10:30 बजे तक।

आज का पर्व एवं त्योहार: शीतला सप्तमी।

आज की भद्रा: प्रात: 05:59 बजे से शाम 05:06 बजे तक।

विक्रम संवत 2077 शके 1943 उत्तरायन, उत्तरगोल, वसंत ऋतु चैत्र मास कृष्ण पक्ष की षष्ठी 05 घंटे 59 मिनट तक, तत्पश्चात् सप्तमी मूल नक्षत्र 26 घंटे 39 मिनट तक, तत्पश्चात् पूर्वाआषाढ़ा नक्षत्र वरियान योग 20 घंटे 58 मिनट तक, तत्पश्चात् परिघ योग धनु में चंद्रमा।

आज के दिन सूर्योदय प्रात:काल 06 बजकर 09 मिनट पर हुआ है, वहीं सूर्यास्त शाम को ठीक 06 बजकर 40 मिनट पर होगा।

आज का चंद्रोदय देर रात 01 बजकर 01 मिनट पर होगा। आज के चंद्र के अस्त का समय 04 अप्रैल को सुबह 10 बजकर 27 मिनट पर होगा।

अभिजित मुहूर्त: आज दिन में 11 बजकर 59 मिनट से दोपहर 12 बजकर 50 मिनट तक।

रवि योग: आज सुबह 06 बजकर 09 मिनट से देर रात 02 बजकर 39 मिनट तक।

विजय मुहूर्त: दोपहर 02 बजकर 30 मिनट से दोपहर 03 बजकर 20 मिनट तक।

अमृत काल: आज रात 08 बजकर 32 मिनट से रात 10 बजकर 04 मिनट तक।

आज चैत्र कृष्ण षष्ठी है। आज शनिवार के दिन हनुमान चालीसा, बजरंगबाण, सुंदरकांड, शनि चालीसा और इनके मंत्रों का जाप करना अत्यंत कल्याणकारी माना जाता है। आज आप कोई नया कार्य करना चाहते हैं तो शुभ मुहूर्त का ध्यान रखें।