शारदीय नवरात्रि (Shardiya Navratri) कल से आरंभ हो रहे हैं। माता दुर्गा कल धरती पर आएंगी और अपने भक्तों के घर पर वास करेंगी। इस दौरान अगर आप दुर्गा पूजा कर रहे हो और नवरात्रि के व्रत रख रहे होतो पहले दिन यानी प्रतिपदा तिथि में कलश स्थापना या घट स्थापना जरूर करें। ध्यान दें कि घटस्थापना शुभ मुहूर्त पर ही करें वरना भारी नुकसान की संभावना बढ़ सकती है।

पंचांग के अनुसार, आश्विन मास प्रतिपदा तिथि का आरंभ 06 अक्टूबर को शाम 04 बजकर 35 मिनट पर हो रहा है और प्रतिपदा तिथि 07 अक्टूबर को दोपहर 01 बजकर 47 मिनट तक ही रहेगी। इसी दौरान कलश स्थापना कर लें तो बेहतर होगा। नवरात्रि के पहले दिन कलश स्थापना के साथ मां दुर्गा के शैलपुत्री स्वरूप की पूजा की जाती है।

शुभ मुहूर्त-


सूर्योदय के समय से 04 घंटे तक आप शांति कलश स्थापना कर सकते हैं। ध्यान दें कि दिल्ली वासी 07 अक्टूबर को सुबह 06 बजकर 17 मिनट से 10 बजकर 17 मिनट तक कलश स्थापना कर सकते हैं। इसके अलावा कलश स्थापना का अभिजीत मुहूर्त सुबह 11 बजकर 52 मिनट से दोपहर 12 बजकर 38 मिनट तक रहेगा।

कलश स्थापना-


कलश में सभी तीर्थ, देवी-देवताओं का वास होता है। ये मां दुर्गा की पूजा-अर्चना में आने वाली बाधाओं को दूर करने में सहायक होते हैं। घट स्थापना करने से भक्त को पूजा का शुभ मिलता है और घर में सकारात्मक माहौल रहता है। घर में सुख-शांति आती  है।