7 अक्टूबर, गुरुवार को से शारदीय नवरात्रि (Sharadiya Navratri 2021) प्रांरभ हो जाएंगे। 6 अक्टूबर को पितृ पक्ष श्राद्ध खत्म हो जाएंगे। इन नवरात्रि में माता के 9 रूपों की पूजा की जाएगी। 9 दिनों तक माता के अलग अलग रूपों में पधारेंगी और इनकी विधि विधान के साथ पूजा की जाएगी। साथ ही 14 अक्टूबर को महानवमी (Maha Navami) का पर्व मानाया जाएगा। इसके बाद 15 अक्टूबर को दशहरा (Dussehra) का पर्व है।


ज्योतिष ने बताया है कि इस साल 2021 चतुर्थी तिथि का क्षय होने का कारण नवरात्रि 8 दिनों के होंगे और यह 14 अक्टूबर तक ही चलेंगे। मां दुर्गा की अलग-अलग स्वरूपों की पूजा-अर्चना के साथ माता रानी की विशेष कृपा पाने के लिए उपवास रखा जाता हैं। इस बार मां दुर्गा की सवारी बहुत ही अद्भुत होने वाली है। इस बार नवरात्रि गुरुवार प्रारंभ हो रहे हैं तो माता रानी की सवारी डोली होती है। इस साल नवरात्रि गुरुवार से प्रारंभ हो रहे हैं तो मां दुर्गा डोली पर सवार होकर आएंगी।

जानकारी के लिए बता दें कि नवरात्रि में इस साल मां पालकी पर सवार होकर आएंगी। यानी मां की इस साल की सवारी डोली होगी। शास्त्रों के अनुसार, अगर नवरात्रि रविवार या सोमवार से प्रारंभ होते हैं तो माता रानी की सवारी हाथी होती है।

नवरात्रि की शुरुआत शनिवार या मंगलवार से होती है तो मां की सवारी घोड़ा यानी अश्व होता है। जब नवरात्रि बुधवार से शुरू होते हैं तो मां दुर्गा की सवारी नाव होती है।