आज महिलाओं द्वारा सकटा चौथ का व्रत रखा जा रहा है। भगवान गणेश को समर्पित सकट चौथ व्रत में विधि विधान से पूजा की जाती है और पूरे दिन भर बिन अन्न के रहा जाता है। शाम के बाद चंद्रमा को अर्घ्य देने के बद ही व्रत पूरा होता है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, सकट चौथ के दिन व्रत रखने से संतान निरोगी, दीर्घायु और सुख-समृद्धि से परिपूर्ण होती है। बता दें कि सकट चौथ को संकटा चौथ, तिलकुटा चौथ या संकष्टी चतुर्थी नामों से भी जाना जाता है।


इस तरह से दें चंद्रमा को अर्घ्य
चंद्रमा को औषधियों का स्वामी और मन का कारक माना जाता है, चंद्रमा को अर्घ्य देने से सौभाग्य का भी आशीर्वाद मिलता है। इसलिए चंद्रमा को अर्घ्य देने का सही तरीका यह है कि चांदी के पात्र में पानी में थोड़ा सा दूध मिलाकर चंद्रमा को अर्घ्य दें। इससे मन में आ रहे समस्त नकारात्मक विचार, दुर्भावना दूर हो जाती है। सकारात्मक विचार आते हैं और मन शांत रहता है और स्वास्थ्य भी ठीक रहता है।

ध्यान दें अर्घ्य देते वक्त इस मंत्र का करें जाप
गगनार्णवमाणिक्य चन्द्र दाक्षायणीपते।
गृहाणार्घ्यं मया दत्तं गणेशप्रतिरूपक॥
इससे सारा वातावरण शुद्ध होता है और घर में सकारात्मकता स्थिर रहती है।