वैदिक पंचांग के अनुसार, फाल्गुन मास के शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को फुलेरा दूज मनाया जाता है।। इस साल फुलेरा दूज 4 मार्च, शुक्रवार को है। फुलेरा दूज के दिन से ही मथुरा में होली की शुरुआत होती है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, इस दिन से ही भगवान श्रीकृष्ण ने होली खेलने की शुरुआत की थी।

फुलेरा दूज 2022 शुभ मुहूर्त-

हिंदू पंचांग के अनुसार, फाल्गुन मास के शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि 03 मार्च, गुरुवार को रात 09 बजकर 36 मिनट से शुरू होगी, जो कि 04 मार्च, शुक्रवार को रात 08 बजकर 45 मिनट पर समाप्त होगी। ऐसे में फुलेरा दूज का त्योहार 4 मार्च को मनाया जाएगा।

यह भी पढ़े : Monthly Horoscope March 2022: इस महीने इन राशि वालों को करियर में आएगा जबरदस्त बूम , इनकी राशि वालों की बढ़ेंगी मुश्किलें


गुलरियों बनाने का है रिवाज-

होलिका दहन के दिन गोबर से बने उपलों को जलाने की परंपरा है। गाय के गोबर से इस दिन छोटे-छोटे उपले बनाकर माला तैयार की जाती है। इस माला को होलिका दहन वाले दिन अग्नि में डाल देते हैं। इसे ही गुलरियां कहते हैं। इसे बनाने का काम फुलेरा दूज से शुरू हो जाता है। मान्यता है कि ऐसा करने से घर में सुख-समृद्धि आती है और शत्रुओं पर विजय प्राप्त होती है।

यह भी पढ़े : Aaj Ka Rashifal 4 March: आज इन राशियों पर बरसेगी मां लक्ष्मी की कृपा नौकरी और कारोबार में होगा फायदा,  जानिए सभी 12 राशियों का राशिफल


भगवान श्रीकृष्ण से है संबंधित

फुलेरा दूज के दिन भगवान श्रीकृष्ण और राधा रानी की विधि-विधान से पूजा की जाती है। पूजा के समय भगवान श्रीकृष्ण को गुलाल अर्पित किया जाता है। मथुरा और वृंदावन में इस दिन फूलों की होली खेली जाती है।