माता सरस्वती की पूजा अक्सर स्कूलों में और उन दफ्तर या संस्थानों में होती है जहां पर लेखन, गायन और वादन का काम होता है। आपको बता दें कि भारत में वैसे तो देश में देवी सरस्वती के बहुत ही कम मंदिर है। लेकिन 8 ऐसे प्रसिद्ध सरस्वती के मंदिर हैं जहां पर Saraswati Lyrics रोज होती है और इन्हें चमत्कारी माना जाता है। इन मंदिरों में भक्तों की भीड़ लगी रहती है वो जगहें इस प्रकार हैं—



भीम पुल
भीम पुल सरस्वती मंदिर उत्तराखंड में बद्रीनाथ धाम से 3 किलोमीटर आगे पड़ता है। इसको देवी सरस्वती का उद्गम स्थल माना जाता है। यहां पर भीम पुल के नीचे से माता सरस्वती निकलती है और यहीं नीचे धरातल में लुप्त भी हो जाती है। यहीं पर माता सरस्वती का एक दिव्य मंदिर भी है।



बासर
यह अनोखा मंदिर आंध्र प्रदेश में आदिलाबाद जिले के मुधोल क्षेत्र के बासर गांव में स्थित है। गोदावरी तट पर बने इस गांव में है विद्या की देवी मां सरस्वती का विशाल मंदिर है जिसको महाभारत के रचयिता महाऋषि वेद व्यास ने बनवाया था। इस मंदिर के निकट ही वाल्मीकि जी की संगमरमर की समाधि बनी है। यहां पर सरस्वती की प्रतिमा पद्मासन मुद्रा में 4 फुट ऊंची है।



पुष्कर
राजस्थान के पुष्कर में विद्या की देवी सरस्वती का भी सुप्रसिद्ध मंदिर है। यहां माता सावित्र का भी मंदिर है। मान्यता है कि यहां पर माता सरस्वती नदी के रूप में भी विराजमान हैं। यहां उन्हें उर्वरता व शुद्धता का प्रतीक माना जाता है।



श्रृंगेरी
सनातन धर्म की 4 पीठों में से एक श्रृंगेरी में एक पीठ है। यहां पर माता शारदा का प्रसिद्ध मंदिर है। इस मंदिर को शरादाम्बा मंदिर भी कहा जाता है। शरादाम्बा मंदिर और दक्शनाम्नाया पीठ का निर्माण आचार्य श्री शंकर भागावात्पदा द्वारा 7 वीं शताब्दी में कराया था।



मूकाम्बिका
केरल के एरनाकुलम जिले में देवी सरस्वती का मंदिर है। इस मंदिर को  मूकाम्बिका मंदिर भी कहा जाता है। कहा जाता है कि यहां राजा देवी मूकाम्बिका की पूजा करते थे। राजा जब बूढे हो गए तो वहां जाने में परेशानी होने लगी। भक्त की परेशानी को समझकर माता सपने में आई और उनका मंदिर बनाने का कहा। इसके बाद इस मंदिर का निर्माण कराया गया।



मैहर
मैहर का शारदा मंदिर मध्यप्रदेश के सतना शहर के पास करीब त्रिकुटा पहाड़ी पर स्थित है। मां सरस्वती यहां पर मां शारदा के रूप में विराजमान हैं। इस इलाके में यह मंदिर काफी प्रसिद्ध है लोग यहां Saraswati Lyrics कर अपने उज्जल भविष्य की कामना करते हैं।



भोजशाला
मध्यप्रदेश के धार शहर में भी सरस्वती माता का सुप्रसिद्ध मंदिर है। इस स्थान पर मां सरस्वती की विशेष रूप से इस दिन पूजा-अर्चना की जाती है। राजा भोज सरस्वती माता के भक्त थे। यह मंदिर विवादित है।

वारंगल श्री विद्या सरस्वती मंदिर
आंध्र प्रदेश के मेंढक जिले के वारंगल में हंस वाहिनी विद्या सरस्वती मंदिर है। इस मंदिर का रखरखाव कांची शंकर मठ करता है। इसी स्‍थान पर अन्य देवी-देवताओं के मंदिर जैसे श्री लक्ष्मी गणपति मंदिर, भगवान शनीश्वर मंदिर, और भगवान शिव मंदिर निर्मित हैं।