सबसे भोले भंडारी भगवान भोलेनाथ है। सावन के महीना भगवान शिव को समर्पित होता है। इस महीने में शिव की खास अराधना की जाती है। सावन का महीना बहुत ही खूबसूरत होता है। इस साल 2022 में सावन का महीना इस साल 14 जुलाई से 12 अगस्त तक रहेगा। भगवान शिव के भक्तों को इस महीने का बेसब्री से इंतजार रहता है।


सावन के महीने में शिव पूजन विधि


सावन में प्रत्येक दिन सूर्योदय से पहले जागें और स्नान के बाद साफ-सुथरे कपड़े पहनें। शिवलिंग पर दूध चढ़ाकर महादेव के व्रत का संकल्प लें। सुबह-शाम भगवान शिव की प्रार्थना करें। पूजा के लिए तिल के तेल का दीया जलाए और भगवान शिव को पुष्प अर्पण करें। मंत्रोच्चार करने के बाद शिव को सुपारी, पंच अमृत, नारियल और बेल की पत्तियां चढ़ाएं। व्रत के दौरान सावन व्रत कथा का पाठ जरूर करें।


सावन सोमवार

सावन के महीने में सोमवार के दिन का खास महत्व होता है। इस बार सावन के चार सोमवार व्रत पड़ रहे हैं।सावन के सोमवार का पहला व्रत 18 जुलाई को है। दूसरा सोमवार व्रत 25 जुलाई, तीसरा 8 अगस्त और चौथा 16 अगस्त को है। सावन के हर सोमवार में बेल पत्र से भगवान भोलेनाथ की विशेष पूजा की जाती है।