दर्पण (Mirror) अपेन जीवन में बहुत मायने रखता है। शक्ल सूरत ही नहीं ये जीवन के पेतरे सीखा देता है। साथ ही घर में अगर ये सही दिशा में लगा हुआ है तो मां लक्ष्मी और भगवान विष्णु की अपरम पार कृपा बरसती है। आज जानिए आईने के वास्तु और बदल लीजिए कि अपनी किस्मत की लकीरें।
कैसे लगाएं दर्पण-
शीशे और शीशे के शोपीस हमेशा उत्तरी या पूर्वी दीवारों पर लगाना चाहिए। इन दिशाओं में दर्पण लगाने से धन संबंधित समस्याएं दूर होती है।
रसोई में दर्पण (Mirror) नहीं रखना चाहिए, खासकर अगर गैस स्टोव या खाना पकाने का क्षेत्र रिफ्लेक्टिड हो रहा है।
शीशे को जमीन से कम से कम 4-5 फीट की दूरी से ऊपर रखें। शीशा कभी भी नहीं झुकना चाहिए और हमेशा सपाट होना चाहिए।

दर्पण लकड़ी का बना होना चाहिए।

अपने दर्पण (Mirror) को दैनिक आधार पर साफ करना आवश्यक है ताकि वह हमेशा आपकी एक साफ छवि को प्रतिबिंबित करे।

कार्यस्थल के कैश लॉकर के सामने एक दर्पण रखें ऐसा माना जाता है कि ये धन को आकर्षित करता है और आपकी वित्तीय स्थिति को दोगुना करता है।
बेडरूम के डोर के ठीक सामने दर्पण (Mirror) लगा सकते हैं। इससे घर परिवार में चल रही समस्याएं धीरे-धीरे खत्म होने लगती हैं।
(यह आलेख सिर्फ जनरुचि के लिए हैं, यह आलेख इन सब का दावा नहीं करता है। यह लौकिक मान्यता आधारित है।)