जम्मू। माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड ने वैदिक मंत्रोच्चार एवं अन्य धार्मिक अनुष्ठानों के प्रदर्शन के साथ जम्मू कश्मीर के रियासी जिले में चैत्र नवरात्रों के मौके पर श्री माता वैष्णो देवी की पवित्र गुफा में आयोजित षट चंडी महायज्ञ का शुभारंभ किया है। महायज्ञ नौ दिनों तक चलने वाले 'चैत्र नवरात्र' उत्सव की शुरुआत का प्रतीक है, जो शांति, समृद्धि और मानवता के स्वास्थ्य के लिए पवित्र गुफा तीर्थ में किया जा रहा है। इसका समापन महानवमी पर पूर्ण आहुति के साथ होगा। 

यह भी पढ़ें- रूस के दोस्त चीन से मदद मांगने पहुंचा यूक्रेन, कर दी ऐसी मांग

इस अवसर पर श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी रमेश कुमार, श्राइन बोर्ड के अन्य अधिकारी और बड़ी संख्या में तीर्थयात्री उपस्थित रहे। नवरात्र के दौरान शुक्रवार से रोजाना रात 11.30 बजे से दोपहर 1.00 बजे तक शत चंडी महायज्ञ किया जाएगा। पहले की तरह श्री माता वैष्णो देवी के भवन, अटका और उसके आसपास के क्षेत्र को नवरात्रों के दौरान फूलों से सजाया गया है। देशी-विदेशी फलों और फूलों से सजावट की गई है। 

इसके साथ ही भवन क्षेत्र में विशाल स्वागत द्वार और पंडाल आदि स्थापित किए गए हैं। भवन क्षेत्र को आकर्षक व रंग-बिरंगी लाइटों से भी रौशन किया गया है, जो कटरा से भवन तक लगभग 12 किलोमीटर की यात्रा करने वाले तीर्थयात्रियों को आनंद की अनुभूति दे रहा है। वहीं श्राइन बोर्ड ने बड़ी संख्या में तीर्थयात्रियों की सुविधा के लिए भी विस्तृत व्यवस्था की है। इन व्यवस्थाओं में मंदिर की ओर जाने वाली सभी रास्तों पर चौबीसों घंटे पानी और बिजली की आपूर्ति सुनिश्चित करना, स्वच्छता और स्वच्छता, बोर्ड के भोजनालय में विशेष भोजन की उपलब्धता आदि शामिल हैं। 

यह भी पढ़े : राशिफल 3 अप्रैल: मेष, वृष, मिथुन वालों के लिए  भारी नुकसान के बन रहे हैं योग, ग्रहों की स्थिति आज कुछ खास नहीं

इसके अलावा, पवित्र गुफा तीर्थ की ओर जाने वाले सभी मार्ग तीर्थयात्रियों की सुचारू आवाजाही के लिए तैयार हैं। श्राइन बोर्ड रास्ते के साथ-साथ भवन क्षेत्र में अन्य व्यवस्थाओं की लगातार समीक्षा और निगरानी कर रहा है और तीर्थयात्रियों से बातचीत कर श्राइन बोर्ड द्वारा उनकी सुविधा के लिए की गई सुविधाओं के बारे में पूछताछ कर रहा है। इसके अलावा, पवित्र तीर्थ की ओर जाने वाले सभी स्टेशनों पर यात्रा के परेशानी मुक्त संचालन की निगरानी के लिए श्राइन अधिकारियों की विशेष टीमों का गठन किया गया है।