महाशिवरात्रि व्रत फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को रखा जाता है। इस दिन भगवान शिव और माता पार्वती की विधिवत पूजा की जाती है। इस साल Mahashivratri 1 मार्च 2022 को पड़ रही है। भगवान शिव की पूजा में केतकी का फूल अर्पित करने की मनाही है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार भगवान शिव की पूजा में किन चीजों का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए जो इस प्रकार है—


फ़ोटो का कोई वर्णन उपलब्ध नहीं है.

नहीं चढ़ाएं सिंदूर
भगवान शिव को छोड़कर सभी देवी-देवताओं को सिंदूर अतिप्रिय है। मान्यता है कि सिंदूर महिलाएं पति की लंबी आयु के लिए लगाती हैं और भगवान शिव संहारक हैं। इसलिए भगवान शिव को सिंदूर की बजाए चंदन लगाना चाहिए।


फ़ोटो का कोई वर्णन उपलब्ध नहीं है.

जल्दी नहीं करें अर्पित
शिवजी को कभी हल्दी अर्पित नहीं करते हैं। शास्त्रो के अनुसार, शिवलिंग पुरुष तत्व का प्रतीक है और हल्दी स्त्रियों से संबंधित है। इसलिए भगवान शिव को हल्दी चढ़ाने की मनाही होती है।

फ़ोटो का कोई वर्णन उपलब्ध नहीं है.

तुलसी नहीं चढ़ाएं
हिंदू धर्म में तुलसी का विशेष महत्व होता है। तुलसी को सभी शुभ कार्यों में प्रयोग किया जाता है। लेकिन भगवान शिव को तुलसी अर्पित करना वर्जित होता है। मान्यता है कि भगवान शिव को तुलसी अर्पित करने से पूजा पूर्ण नहीं मानी जाती है। इसलिए महाशिवरात्रि पर भगवान शिव की पूजा में तुलसी का प्रयोग न करें।


फ़ोटो का कोई वर्णन उपलब्ध नहीं है.

पूजा में नहीं रखें शंख
भगवान शिव की पूजा में शंख का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। पौराणिक कथा के अनुसार, भगवान शिव ने शंखचूड़ नाम के एक असुर का वध किया था, जो भगवान विष्णु का प्रिय था। शंख को उसी असुर का प्रतीक माना जाता है। इसलिए शिव पूजा में शंख का प्रयोग वर्जित माना जाता है।