26 मई 2021 को चंद्र ग्रहण होने है। यह उत्तर पूर्वी भारत के भागों में ही दिखाई देगा। वैज्ञानिकों ने बताया है कि सूर्यास्त के बाद समाप्त होते हुए चन्द्र ग्रहण शुरू हो जाएगा। साल 2021 में कुल चार ग्रहण होंगे, दो चंद्रग्रहण हैं और दो सूर्य ग्रहण। सुर्य ग्रहण भारत में नहीं देखा जाएगा लेकिन सिर्फ चंद्र ग्रहण ही भारत के उत्तरपूर्वी इलाकों मे देखा जा सकता है।


26 मई बुद्ध पूर्णिमा को चंद्र ग्रहण पड़ रहा है तो ग्रहण अनुराधा नक्षत्र और वृश्चिक राशि पर होगा। चंद्र ग्रहण भारत के उत्तर पूर्वी क्षेत्र अरुणाचल प्रदेश, असम, नागालैंड ,मणिपुर ,मिजोरम ,त्रिपुरा और पश्चिम बंगाल के कुछ भागों में भी देखा जा सकेगा। यह चंद्र ग्रहण विशेष रूप से  दक्षिणी एवं उत्तरी अमरीका, हिंद महासागर, पश्चिम ब्राजील, कनाडा, श्रीलंका चीन, मंगोलिया, रूस ,ऑस्ट्रेलिया देशों में दिखाई देगा।

ग्रहण का सूतक ग्रहण से नौ घंटे पूर्व उन शहरों विशेष महानगर, देश अथवा प्रदेश में मान्य होते हैं जहां पर यह ग्रहण हुआ करता है। यह चंद्रग्रहण पूर्वोत्तर क्षेत्र में हो रहा है, ऐसे में उसी क्षेत्र में सूतक मान्य होगा। 19 नवंबर 2021 को भारत भूमि पर दूसरा चन्द्र ग्रहण होगा। सूर्य ग्रहण वर्ष 2021 में दो होंगे किंतु यह दोनों ग्रहण भारत में दिखाई नहीं पड़ेंगे।