महाभारत में बहुत जीवन की बहुत ही महत्वपूर्ण सार दिया गया है। इसमें  जीवन कैसे गुजाराना होता है और किस तरह से ज्ञापन करना होता है के बारे में बताया गया है। महाभारत में हाराज विदुर का नाम का प्रमुख पात्रों में से एक है। महाराज विदुर ने विदुर नीति में जीवन को जीने की कई नीतियों के बारे में बता या हैं। विदुर की नीतियों का पालन करने वाला व्यक्ति अपने जीवन में सफलता हासिल करके ही  धरती से विदा होता है।

 


वैसे हम जानते हैं कि बिना मेहनत के बिना सफलता को नहीं पाया जा सकता है। कुछ पाने के लिए खोना पड़ता है और मेहनत भी बहुत करनी पड़ती है। इन सबके साथ ही कुशलता भी बहुत ही मायने रखती है। हर व्यक्ति को किसी न किसी काम में कुशल होना जरूरी है। इससे वह अपने लक्ष्य को पाते हैं। दूसरा है संयम जो  इंसान में होना बहुत ही जरूरी होता है। महात्मा विदुर इसके बारे में कहते हैं कि सफलता के लिए संयम बहुत जरूरी है। जब संयम नहीं होता है तो भारी नुकसान होता हैं।

 


सावधानी की बात करें तो हर काम में सावधानी बहुत ही जरूरी है। कई चीजों का नजरअंदाज करना जरूरी होता है और कई चीजों का नजरअंदाज करना जरूरी नहीं होता है। इसमें समझदारी से काम लेना चाहिए। सफलता के रास्ते पर हम सावधानियां बरतना बहुत ही जरूरी है। इससे लक्ष्य को आसानी से भेदा जा सकता है। इसलिए जीवन के लिए और लक्ष्य के लिए संयम, सावधानी और कुशलता होना बहुत ही जरूरी है। अगर यह आदत बन जाए तो सफलता से जीवन जीना आसान हो जाता है।