आज मंगलवार के दिन Goswami Tulsidas द्वारा रचित रामचरितमानस  के 7 अध्याय में से सुन्दरकाण्ड का पाठ करने से जिंदगी कई दुख दर्द दूर हो जाते हैं। कहा जाता है कि भय, कष्ट, भूत-पिशाज जैसे नकारात्मक चीजों को यह एक उच्चारण से दूर कर देते हैं। जानकारी दे दें कि सुंदरकाण्ड को शनिवार के दिन पाठ करने से शनि दोषों से पूर्ण मुक्ति मिल जाती है।  
Sundara Kanda के लाभ-

1. नकारात्मक शक्तियां

जो व्यक्ति सुंदरकाण्ड का पाठ करता है, नकारात्मक शक्तियां उससे कोसों दूर रहती हैं। उस व्यक्ति में इतना तेज आ जाता है कि नकारात्मक शक्तियां उसके इर्द गिर्द भी नहीं भटक सकतीं। यदि आपको लगता है कि आपका कोई कार्य बार बार आ रही किसी बाधा की वजह से पूरा नहीं हो पा रहा है, तो आपको मंगलवार या शनिवार के दिन Sundara Kanda का पाठ जरूर करना चाहिए।
2. शनि प्रकोप

शनि की साढ़ेसाती, महादशा या ढैय्या का प्रभाव होने पर व्यक्ति को शारीरिक, मानसिक और आर्थिक परेशानियां तोड़कर रख देती हैं लेकिन अगर आप हनुमान बाबा के भक्त हैं और हर शनिवार को Sundara Kanda का पाठ करते हैं, तो यकीन मानिए आप पर शनि के प्रकोप का असर बेहद हल्का हो जाएगा।
3. रोग, भय और दरिद्रता

यदि आप Sundara Kanda का पाठ करते हैं, तो आपका तेज तो बढ़ता ही है, साथ ही आपके परिवार के रोग और दोष मिट जाते हैं। इसे करने से व्यक्ति निर्भय हो जाता है। उसे बुरे सपने प्रभावित नहीं कर पाते। इससे घर में सकारात्मकता का प्रभाव होता है और गृह क्लेश दूर होते हैं। साथ ही आपके परिवार में संपन्नता आती है और आर्थिक परेशानियों का अंत होता है।
4. ग्रहों के अशुभ प्रभाव

सुंदरकाण्ड का पाठ सिर्फ शनि के प्रकोप से ही नहीं बचाता, बल्कि अन्य ग्रहों के अशुभ प्रभावों को भी दूर करने में सक्षम है लेकिन बेहतर है कि आप इसका पाठ स्वयं करें। अगर स्वयं नहीं कर सकते तो कम से कम बैठकर पूरा पाठ सुनें जरूर, इससे आपकी तमाम पीड़ा का अंत खुद ही होने लगेगा।
5. मनोकामना

अगर आपकी कोई विशेष मनोकामना है और उससे किसी का अहित नहीं होगा, तो आप उसे हनुमान जी के समक्ष रखकर 5 मंगलवार या शनिवार को Sundara Kanda का पाठ करने का संकल्प लें और पूरी श्रद्धा के साथ इस संकल्प को पूरा करें। इससे आपकी मनोकामना जरूर पूरी होगी।
(यह आलेख सिर्फ जनरुचि के लिए हैं, यह आलेख इन सब का दावा नहीं करता है। यह लौकिक मान्यता आधारित है।)