इस साल भगवान श्रीकृष्ण का 5249वां जन्मोत्सव मनाया जा रहा है। श्रीकृष्ण जन्मोत्सव कुछ लोग 18 व कुछ लोग 19 अगस्त को मना रहे हैं। देश के अलग-अलग शहरों में स्थित इस्कॉन मंदिरों में जन्माष्टमी का पावन पर्व 19 अगस्त, शुक्रवार को मनाया जाएगा। हिंदू पंचांग के अनुसार, निशिता काल में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पूजन करना अत्यंत शुभ माना गया है। निशिता काल 20 अगस्त को देर रात 12 बजकर 03 मिनट से 12 बजकर 47 मिनट तक रहेगा। यह अवधि कुल 44 मिनट की है।

यह भी पढ़े : राशिफल 18 अगस्त: ग्रहों की स्थिति से इन राशि वालों को होगी मानसिक परेशानियां , ये लोग हरी वस्‍तु पास रखें


अष्टमी तिथि व रोहिणी नक्षत्र-

अष्टमी तिथि प्रारम्भ - अगस्त 18, 2022 को 09:20 पी एम बजे और अगस्त 19, 2022 को 10:59 पी एम बजे समाप्त होगी। रोहिणी नक्षत्र प्रारम्भ - अगस्त 20, 2022 को 01:53 ए एम बजे से और रोहिणी नक्षत्र समाप्त - अगस्त 21, 2022 को 04:40 ए एम बजे से होगा।

यह भी पढ़े : 21 और 28 अगस्त को 4 घंटे के लिए बंद रहेगा मोबाइल इंटरनेट


रोहिणी नक्षत्र के बिना जन्माष्टमी-

इस साल रोहिणी नक्षत्र के बिना ही जन्माष्टमी मनाई जाएगी। जबकि 19 अगस्त को व्रत रखने वालों के व्रत पारण के दिन अष्टमी तिथि सूर्योदय से पहले ही समाप्त हो जाएगी।

यह भी पढ़े : Krishna Janmashtami 2022: अपरंपार है भगवान श्री कृष्ण के 108 नामों की महिमा, जपने से पूरी होंगी सभी


देश के तमाम शहरों में इस्कॉन कृष्ण जन्माष्टमी मुहूर्त-

12:16 ए एम से 01:01 ए एम, अगस्त 20 - पुणे

12:03 ए एम से 12:47 ए एम, अगस्त 20 - नई दिल्ली

11:50 पी एम से 12:36 ए एम, अगस्त 20 - चेन्नई

12:09 ए एम से 12:53 ए एम, अगस्त 20 - जयपुर

11:57 पी एम से 12:42 ए एम, अगस्त 20 - हैदराबाद

12:04 ए एम से 12:47 ए एम, अगस्त 20 - गुरुग्राम

12:05 ए एम से 12:48 ए एम, अगस्त 20 - चण्डीगढ़

11:18 पी एम से 12:03 ए एम, अगस्त 20 - कोलकाता

12:20 ए एम से 01:05 ए एम, अगस्त 20 - मुम्बई

12:00 ए एम से 12:46 ए एम, अगस्त 20 - बेंगलूरु

12:21 ए एम से 01:06 ए एम, अगस्त 20 - अहमदाबाद

12:02 ए एम से 12:46 ए एम, अगस्त 20 - नोएडा